पाकिस्तान की 2,000 वेबसाइट हैक, हैकर्स ने बताया इंटरनेशनल टेरर डे

एक हैकर ग्रुप ने पाकिस्तान की लगभग 2,000 वेबसाइट्स हैक करने का दावा कि है. इनमें ज्यादातर वेबसाइट वहां की सरकार से जुड़ी है. हाल ही में इन्हीं हैकर ग्रुप ने पाकिस्तान सरकार की वेबसाइट हैक की जिम्मेदारी ली थी.

पाकिस्तान की 2,000 वेबसाइट हैक, हैकर्स ने बताया इंटरनेशनल टेरर डे

ताजा हैक की जिम्मेदारी मल्लु साइबर सोलजर्स नाम के हैकर ग्रुप ने ली है. इनका कहना है कि ये इन्होंने पाकिस्तान के स्वतंत्रता दिवस के मौके पर उन्हें छोटा सा ‘तोहफा’ दिया है. उनके मुताबिक इस हैकिंग के लिए उन्होंने कई तरह के हैकिंग मेथड का इस्तेमाल किया है जिसमें रैंजमवेयर अटैक भी शामिल है. 

इस ग्रुप ने अपने पेज पर लिखा है ‘इस बार पाकिस्तान के लिए स्वतंत्रता दिवस यादगार रहेगा, क्योंकि हमने वहां की 2,000 से ज्यादा वेबसाइट्स हैक कर ली हैं. यह दुनिया के इतिहास में ऐसे मौके पर पाकिस्तान को दिया जाने वाला शायद सबसे बेहतरीन गिफ्ट है’

इस हैकर ग्रुप की आधिकारिक वेबसाइट पर लिखा है कि इन 2,000 वेबसाइट्स में से कई सराकारी वेबसाइट्स भी हैं. इसके पीछे का मकसद उन्हें सबक सिखाना है. हालांकि पहले वो भारत का हिस्सा थे, लेकिन अब वो आतंकी देश हो गए हैं. वो आतंकवाद को बढ़ावा देते हैं और भारत में अराजकता फैलाते हैं’ 

हैकर ग्रुप ने वेबसाइट्स की लिस्ट भी जारी की है जिसमें 2,000 से ज्यादा लिंक दिए गए हैं. दावा किया गया है कि इनमें से ज्यादातर वेबसाइट A क्लास की हैं. इसमें से 70 वेबसाइट्स को रैन्समवेयर के जरिए हैक किया गया है. यानी अब इसे ठीक करने के लिए पैसे देने होंगे.

हैक की गई वेबासाइट में ऑडियो विजुअल संदेश पोस्ट किए गए हैं. इनमें इंडियन नेवी का एक विज्ञापन है और OP Troll Pakistan लिखा है. हैक्ड वेबसाइट्स पर हैकर ग्रुप्स ने लिखा है, ‘हम आज यानी 14 अगस्त को इंटरनेशनल टेरर डे मना रहे हैं. 1947 में दो देशों को आजादी मिली, भारत मार्स मिशन पर सैटेलाइट भेज रहा है और पाकिस्तान भारत में आतंकी भेज रहा है. शर्म आनी चाहिए.’ 

यह पहला मौका नहीं है जब किसी हैकर ग्रुप ने पाकिस्तान की वेबसाइट हैक की है. पहले भी पाकिस्तान की वेबसाइट्स हैक होती रही हैं. अगर आपको याद हो तो हाल ही में पाकिस्तानी हैकर्स ने भारत की टॉप यूनिवर्सिटी की वेबसाइट्स हैक कर ली थीं जिसके बाद यह और भी तेज हो गया.

You May Also Like

English News