पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री इमरान के पहले भाषण में दिखी PM मोदी के सपनों की झलक

प्रधानमंत्री बनने के बाद पूर्व क्रिकेटर इमरान खान के देश के नाम पहले संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा भारत में शुरू किए गए स्वच्छ भारत अभियान और प्रधानमंत्री आवास योजना का खासा प्रभाव दिखा. इमरान ने स्वच्छता को धर्म से जोड़ते हुए कहा है कि पूरे पाकिस्तान में स्वच्छता अभियान की शुरुआत की जाएगी और 50 लाख कम बजट के घर बनाए जाएंगे.पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री इमरान के पहले भाषण में दिखी PM मोदी के सपनों की झलक

प्रधानमंत्री बनने के बाद पाकिस्तान की जनता को संबोधित करते हुए इमरान खान ने कहा कि स्वच्छता आधा धर्म है. हमें पूरे पाकिस्तान में स्वच्छता अभियान की शुरुआत करनी है, ताकि पाकिस्तान स्वच्छता और सुंदरता के मामले में यूरोपीय देशों का मुकाबला कर सके.

इमरान खान ने आगे कहा कि ये शर्म की बात है पीएम के बंगले में 524 कर्मचारी, 80 गाड़ियां और 33 बुलेट प्रूफ गाड़ियां है. इसके अलावा हेलीकॉप्टर और विमान हैं. इसके साथ मुख्यमंत्री, गवर्नर, कमिश्नर के बड़े-बड़े बंगले हैं जबकि आजादी के बाद देश की बड़ी आबादी के सर पर अभी भी छत नहीं है. इमरान ने कहा कि पाकिस्तान में 50 लाख कम बजट के घरों का निर्माण कराया जाएगा जो कि एक चुनौती भरा कार्य है.  

हमने पीएम मोदी को अक्सर अप्रवासी भारतीयों को देश में निवेश करने के लिए प्रेरित करते हुए सुना है. कुछ ऐसा ही पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान भी करते दिखें जब देश के आर्थिक हालात पर चिंता व्यक्त करते हुए इमरान ने कहा कि विदेश में रहने वाले पाकिस्तानी देश में पैसा भेजें, यहां के बैकों में रखे. जिससे देश को डॉलर की कमी से निजात दिलाने में मदद मिले.

इमरान खान ने कहा कि उनका सपना पाकिस्तान को इस्लामिक कल्याणकारी राज्य बनाने का है, जिसमें लोगों पर उनकी क्षमता के हिसाब से कर लगे. इमरान ने दावा किया कि इस्लामिक व्यवस्था में इस तरह के नियम कानून पहले से मौजूद हैं. और आज इसी का अनुसरण कर दुनिया के कई देश प्रगति कर रहे हैं.

भ्रष्टाचार पर बोलते हुए इमरान ने कहा कि पाकिस्तान का गृह मंत्रालय उन्होंने अपने पास इसलिए रखा है क्योंकि वो भ्रष्टाचार के खिलाफ बड़ा अभियान छेड़ने जा रहे हैं. जिसके लिए उन्होने देश की जनता का साथ मांगा है.

बता दें कि पाकिस्तान इस वक्त विकट आर्थिक संकट से जूझ रहा है. इमरान खान ने कहा कि देश का 15000 बिलियन से बढ़कर 28000 बिलियन हो गया है, जिसका ऑडिट कराया जाएगा कि आखिर यह पैसा गया कहां.

You May Also Like

English News