पाकिस्तान ने बढ़ाया रक्षा बजट, सेना को करेगा मजबूत

पाकिस्तान की संसद में शुक्रवार को 2018 -19 का सालाना बजट पेश किया गया, इस साल पाकिस्तान ने संसद में कुल 5,661 अरब रुपये का बजट पेश किया है. इसके साथ ही उसने अपने रक्षा बजट में करीब 10 प्रतिशत की बढ़ोतरी भी की है. पिछले वित्त वर्ष के दौरान पाकिस्तान का रक्षा बजट 999 अरब रुपये का था, जो इस बार बढ़ाकर 11 सौ अरब रुपये कर दिया गया है. इस पैसे का इस्तेमाल पाक अपनी सेना को मजबूत बनाने के लिए करेगा.पाकिस्तान की संसद में शुक्रवार को 2018 -19 का सालाना बजट पेश किया गया, इस साल पाकिस्तान ने संसद में कुल 5,661 अरब रुपये का बजट पेश किया है. इसके साथ ही उसने अपने रक्षा बजट में करीब 10 प्रतिशत की बढ़ोतरी भी की है. पिछले वित्त वर्ष के दौरान पाकिस्तान का रक्षा बजट 999 अरब रुपये का था, जो इस बार बढ़ाकर 11 सौ अरब रुपये कर दिया गया है. इस पैसे का इस्तेमाल पाक अपनी सेना को मजबूत बनाने के लिए करेगा.  पाकिस्तान के वित्तमंत्री एम् इस्माइल ने शुक्रवार को छठा पूर्ण बजट पेश किया, पाकिस्तान की मुस्लिम लीग (PML-N) सरकार का यह छठा बजट है. गौरतलब है कि PML-N सरकार 2013 से सत्ता में आई थी, जिसके बाद से यह अब तक का पाकिस्तान का सबसे बड़ा रखस बजट है. वित्त मंत्री इस्माइल ने बताया है कि इस बजट में  जीडीपी वृद्ध‍ि का लक्ष्य 6.2 फीसदी रखा गया है. पिछले बजट में यह लक्ष्य छह फीसदी रखा गया था, लेकिन अर्थव्यवस्था 5.8 तक ही पहुंच सकी थी.  इसके अलावा पाकिस्तान ने अपने बजट में 4435 अरब रुपये करों से जुटाने का लक्ष्य रखा है. जबकि पिछले वर्ष 3900 अरब रूपए कर द्वारा वसूले थे. हालांकि पाकिस्तान में विपक्ष ने इस बजट का विरोध किया है, उनका कहना है कि मौजूदा सरकार के कार्यकाल के महज तीन महीने बचे हैं. लेकिन इस पर पलटवार करते हुए  वित्त मंत्री ने कहा कि बजट के बिना सरकार एक दिन भी चलना मुश्किल है , ऐसे में तीन महीने बचे हों तीन दिन, बजट तो पेश किया ही जाना चाहिए

पाकिस्तान के वित्तमंत्री एम् इस्माइल ने शुक्रवार को छठा पूर्ण बजट पेश किया, पाकिस्तान की मुस्लिम लीग (PML-N) सरकार का यह छठा बजट है. गौरतलब है कि PML-N सरकार 2013 से सत्ता में आई थी, जिसके बाद से यह अब तक का पाकिस्तान का सबसे बड़ा रखस बजट है. वित्त मंत्री इस्माइल ने बताया है कि इस बजट में  जीडीपी वृद्ध‍ि का लक्ष्य 6.2 फीसदी रखा गया है. पिछले बजट में यह लक्ष्य छह फीसदी रखा गया था, लेकिन अर्थव्यवस्था 5.8 तक ही पहुंच सकी थी.

इसके अलावा पाकिस्तान ने अपने बजट में 4435 अरब रुपये करों से जुटाने का लक्ष्य रखा है. जबकि पिछले वर्ष 3900 अरब रूपए कर द्वारा वसूले थे. हालांकि पाकिस्तान में विपक्ष ने इस बजट का विरोध किया है, उनका कहना है कि मौजूदा सरकार के कार्यकाल के महज तीन महीने बचे हैं. लेकिन इस पर पलटवार करते हुए  वित्त मंत्री ने कहा कि बजट के बिना सरकार एक दिन भी चलना मुश्किल है , ऐसे में तीन महीने बचे हों तीन दिन, बजट तो पेश किया ही जाना चाहिए

You May Also Like

English News