पाकिस्तान में सच बोलने की सजा भोग रहे दुर्रानी

पाकिस्तान में आप सबकुछ कर सकते हो, सिर्फ सच बोलने के अलावा. यहाँ सच बोलने पर पूरी सियासत के साथ आवाम भी आपके खिलाफ खड़ी हो जाती है. यही हुआ है पाकिस्तान की सुरक्षा एजेंसी ISI के प्यूव प्रमुख असद दुर्रानी के साथ. उन्होंने अपनी किताब में एक सच क्या बोला मानों मुसीबत को ही दावत दे दी हो. उन्‍होंने भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ प्रमुख एएस दुलत के साथ मिलकर एक किताब लिखी है, जिसमें उन्‍होंने कुछ खास मुद्दों पर पाकिस्‍तान की काली करतूतों को सामने रखा है.पाकिस्तान में आप सबकुछ कर सकते हो, सिर्फ सच बोलने के अलावा. यहाँ सच बोलने पर पूरी सियासत के साथ आवाम भी आपके खिलाफ खड़ी हो जाती है. यही हुआ है पाकिस्तान की सुरक्षा एजेंसी ISI के प्यूव प्रमुख असद दुर्रानी के साथ. उन्होंने अपनी किताब में एक सच क्या बोला मानों मुसीबत को ही दावत दे दी हो. उन्‍होंने भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ प्रमुख एएस दुलत के साथ मिलकर एक किताब लिखी है, जिसमें उन्‍होंने कुछ खास मुद्दों पर पाकिस्‍तान की काली करतूतों को सामने रखा है.    इसको लेकर अब वहां की फौज के आला अधिकारी समेत खुद पूर्व पीएम नवाज शरीफ भी उनके खिलाफ मैदान में उतर आए हैं, यहाँ तक कि असद दुर्रानी के देश से बाहर जाने पर रोक लगा दी गई है, यह फैसला उनके द्वारा इस विषय पर दिए गए जवाबों से असंतुष्‍ट होने पर लिया गया है. इसके अलावा उनके खिलाफ कोर्ट ऑफ इंक्वायरी भी बैठा दी गई है, यह इंक्वायरी कार्यरत लेफ्टिनेंट जनरल करेंगे.    आपको बता दें कि दुर्रानी सन 1990 से 1992 के बीच आइएसआइ के प्रमुख रहे थे, दुर्रानी और पूर्व रॉ चीफ एएस दुलत की किताब द स्पाई क्रॉनिकल्स : रॉ, आइएसआइ एंड द इल्यूशन ऑफ पीस पाकिस्‍तान के बाजार में फिलहाल नहीं है लेकिन इंटरनेट पर ये उपलब्‍ध है. इस किताब में उन्होंने कहा है कि आतंकी हाफीज़ सईद के खिलाफ कार्यवाही करना पाकिस्तान के बस की बात नहीं है.

इसको लेकर अब वहां की फौज के आला अधिकारी समेत खुद पूर्व पीएम नवाज शरीफ भी उनके खिलाफ मैदान में उतर आए हैं, यहाँ तक कि असद दुर्रानी के देश से बाहर जाने पर रोक लगा दी गई है, यह फैसला उनके द्वारा इस विषय पर दिए गए जवाबों से असंतुष्‍ट होने पर लिया गया है. इसके अलावा उनके खिलाफ कोर्ट ऑफ इंक्वायरी भी बैठा दी गई है, यह इंक्वायरी कार्यरत लेफ्टिनेंट जनरल करेंगे.

आपको बता दें कि दुर्रानी सन 1990 से 1992 के बीच आइएसआइ के प्रमुख रहे थे, दुर्रानी और पूर्व रॉ चीफ एएस दुलत की किताब द स्पाई क्रॉनिकल्स : रॉ, आइएसआइ एंड द इल्यूशन ऑफ पीस पाकिस्‍तान के बाजार में फिलहाल नहीं है लेकिन इंटरनेट पर ये उपलब्‍ध है. इस किताब में उन्होंने कहा है कि आतंकी हाफीज़ सईद के खिलाफ कार्यवाही करना पाकिस्तान के बस की बात नहीं है.

You May Also Like

English News