पीएम की माँ के ऑटो में सफर की वायरल तस्वीर का सच

कर्नाटक चुनाव में बीजेपी पीएम की माता जी का इस्तेमाल करने से भी से भी नहीं चूकि. पीएम मोदी की माताजी का एक फोटो इन दिनों सूबे में बवाल मचा रहा है. फोटो सोशल मिडिया पर खूब देखा जा रहा है. जिसमे मोदी की माता जी ऑटो में सफर करती दिख रही है और इसे उनकी सादगी और मोदी की साधारणता से जोड़ कर देखा जा रहा है. अब इसे प्रचार का साधन बना कर बीजेपी के सभी नेता इसे अपने अपने ट्विटर अकॉउंट पर खूब  शेयर  कर रहे है और साथ में माताजी की और मोदी की तारीफ में कसीदे भी पड़ रहे है. मगर असलियत पर गौर करने से साफ दिख रहा है कि फोटो को तकनिकी माध्यमों से बनाया गया है. इमेज में एक हाथ पीएम कि माता जी के हाथ को पकडे हुए साफ दिख रहा है. सूत्रों कि माने तो सम्भवतः यह पिक्चर गुजरात चुनाव में वोटिंग के समय ले जाते हुए खींची गई थी जिसे बड़ी सफाई से ऑटो में बैठा दिखाया गया है.कर्नाटक चुनाव में बीजेपी पीएम की माता जी का इस्तेमाल करने से भी से भी नहीं चूकि. पीएम मोदी की माताजी का एक फोटो इन दिनों सूबे में बवाल मचा रहा है. फोटो सोशल मिडिया पर खूब देखा जा रहा है. जिसमे मोदी की माता जी ऑटो में सफर करती दिख रही है और इसे उनकी सादगी और मोदी की साधारणता से जोड़ कर देखा जा रहा है. अब इसे प्रचार का साधन बना कर बीजेपी के सभी नेता इसे अपने अपने ट्विटर अकॉउंट पर खूब  शेयर  कर रहे है और साथ में माताजी की और मोदी की तारीफ में कसीदे भी पड़ रहे है. मगर असलियत पर गौर करने से साफ दिख रहा है कि फोटो को तकनिकी माध्यमों से बनाया गया है. इमेज में एक हाथ पीएम कि माता जी के हाथ को पकडे हुए साफ दिख रहा है. सूत्रों कि माने तो सम्भवतः यह पिक्चर गुजरात चुनाव में वोटिंग के समय ले जाते हुए खींची गई थी जिसे बड़ी सफाई से ऑटो में बैठा दिखाया गया है.    कर्नाटक चुनाव में बीजेपी साम, दाम, दंड भेद सब कुछ आजमा रही है. नेताओं की बयानबाजियां लगातार जारी है. आरोप प्रत्यारोपों में किसी तरह की कोई कसर नहीं छोड़ी जा रही है. जहा एक और बीजेपी सबसे ज्यादा दागी विधायकों को टिकिट देने वाली पार्टी बन गई है और इन्ही के कंधो पर कर्नाटक रण विजय का कार्यभार सौंप चूकि है.  सवाल यह है कि जहा बीजेपी एक और कांग्रेस पर आरोप लगा रही है कि पार्टी झूठ का सहारा लेकर कर्नाटक का रण जीतना चाहती है, दागियों को टिकिट दे रही है वही बीजेपी फ़िलहाल खुद के गिरेबान में शायद झाकना ही नहीं चाहती. बहरहाल सूबे में 12 मई को मतदान है

कर्नाटक चुनाव में बीजेपी साम, दाम, दंड भेद सब कुछ आजमा रही है. नेताओं की बयानबाजियां लगातार जारी है. आरोप प्रत्यारोपों में किसी तरह की कोई कसर नहीं छोड़ी जा रही है. जहा एक और बीजेपी सबसे ज्यादा दागी विधायकों को टिकिट देने वाली पार्टी बन गई है और इन्ही के कंधो पर कर्नाटक रण विजय का कार्यभार सौंप चूकि है.

सवाल यह है कि जहा बीजेपी एक और कांग्रेस पर आरोप लगा रही है कि पार्टी झूठ का सहारा लेकर कर्नाटक का रण जीतना चाहती है, दागियों को टिकिट दे रही है वही बीजेपी फ़िलहाल खुद के गिरेबान में शायद झाकना ही नहीं चाहती. बहरहाल सूबे में 12 मई को मतदान है 

You May Also Like

English News