पीएम मोदी के महाबली की हुंकार…‘हम जंग के लिए तैयार’…पाकिस्तान की तो…

हिंदुस्तान की आर्मी के चीफ बिपिन रावत का कहना है कि देश को बॉर्डर पर हर तरह की जंग के लिए तैयार रहना चाहिए। पाकिस्तान का नाम लिए बिना ही आर्मी चीफ ने पड़ोसी मुल्क की चूलें हिला दी हैं। बताया जा रहा है कि बिपिन रावत के इस बयान के बाद से पाक में हड़कंप मचा हुआ है। दरअसल बिपिन रावत ने कहा कि देश की सेना को बॉर्डर पर परंपरागत जंग के लिए तैयार रहना होगा। इसके बाद रावत ने इस बात पर भी जोर दिया है कि देश की सेना को जल्द ही एडवांस टेक्नोलॉजी से लैस किया जाना चाहिए। साफ है कि रावत का कहना है कि पड़ोसी मुल्क इस वक्त सीमा पर किसी बड़ी हरकत के लिए तैयार बैठा है और भारतीय सेना को इसका जवाब देने के लिए हर तरह से तैयार रहना चाहिए।

दरअसल दिल्ली में मिलिट्री कम्युनिकेशन पर दो दिन की कॉन्फ्रेंस चल रही थी। इस कॉन्फ्रेंस में रावत ने कहा कि देश की आर्मी की जरूरतों को वक्त पर पूरा किया जाना चाहिए। साथ ही उनका कहना है कि सेना की डिमांड को किसी भी हाल में लटकाया नहीं जाना चाहिए। पाक का नाम लिए बिना ही रावत ने कहा है कि हिंदुस्तान को को ट्रेडिशनल और नॉन ट्रेडिशनल, हर तरह के युद्ध के लिए तैयार रहना होगा। इसके बाद उन्होंने कहा कि देश की सेना को किसी भी तरह की चुनौती के लिए तैयार रहने की सख्त जरूरत है। आर्मी चीफ ने इशारों में ही सही लेकिन ये बता दिया है कि पड़ोसी मुल्क किसी भी वक्त कोई भी घातक कदम उठा सकता है और इसके लिए देश की सेना तैयार है।

उधर इस खबर के बाद से कहा जा रहा है कि पाक के हुक्मरान एक बार फिर से सोचने पर मजबूर हो गए हैं। इससे पहले देश के पीएम मोदी भी कह चुके हैं कि पाक में आतंकियों ने अपनी पनाहगाह बनाई हुई है। मोदी ने यहा तक कह दिया था कि पाक के बड़े नेता अब आतंकियों के तैयार किए गए भाषण पढ़ने लगे हैं। इसके बाद आर्मी चीफ का कहना है कि भारतीय सेना को लेटेस्ट टेक्नोलॉजी को अपनाने के लिए तैयार रहना होगा, जिससे जब भी आर्मी के लिए इसे प्रोवाइड किया जाएगा तो उसके इस्तेमाल में कोई परेशानी ना हो। इसके साथ ही आर्मी चीफ ने कहा है कि इस वक्त देश को ऐसी टेक्नोलॉजी तैयार करनी चाहिए, जो देश की सेना के मुफीद हो। इसके साथ ही आर्मी चीफ ने कुछ और भी बड़ी बातें कही हैं।
उनका कहना है कि देश की सेना के लिए टेक्नोलॉजी इस तरह से होनी चाहिए कि वो सिंपल और लाइटवेट हो। जिसे आसानी से मेंटेन किया जा सके। इसके पीछे आर्मी चीफ का कहना है कि जब भी बॉर्डर पर जंग होती है तो हल्के इसकी जरूरत होती है। इसके अलावा इस तरह के वैपन्स को खराब मौसम में काम करने लायक बनाया जाना चाहिए। इस प्रोग्राम में रक्षा राज्यमंत्री सुभाष भामरे भी मौजूद थे और उनका कहना था कि भारत सरकार सेना की जरूरतों को पूरा करने के लिए मुस्तैद है। कुल मिलाकर कहें तो आर्मी चीफ ने पाकिस्तान का नाम लिए बिना ही, उस मुल्क की टेंशन बढ़ा दी है। देखना ये है कि नवाज एंड कंपनी अब क्या नई रणनीति तैयार करती है। फिलहाल आर्मी चीफ ने तो अपनी बात साफ-साफ बता दी है।

You May Also Like

English News