बड़ी ख़बर: इस महिला ने पीएम मोदी को दी बेहद गंदी गाली, मचा हाहाकार…

यहां के बस्तर जिले में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। जहां पूरे देश में मोदी लहर दौड़ रही है, वहीं यहां की एक महिला ने पीएम मोदी को गाली दी है। वामपंथी महिला संगठनों की नेता कामरेड कविता कृष्णन ने आज फिर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए ऐसी गंदे शब्दों का प्रयोग किया जिसे सुन उनका समर्थन करने वाले बौखला जाएंगे।इसके साथ ही कृष्णन ने महिलाओं के लिए ऐसी इच्छा जाहिर की जिसे कोई भी महिला बोलने से पहले सौ बार सोंचेगी। पीएम मोदी को गाली- उन्होंने कहा कि भारत का प्रधानमंत्री अमेरिका के इशारे पर 1000 और 500 का नोट बंद कर दिया है, जिससे हमारे बस्तर में रहने वाले आदिवासी भाइयों को आज भुखमरी का सामना करना पड़ रहा है। 

उधोगपतियों का अरबों-खरबों का टैक्स माफ करने वाला यह प्रधानमंत्री देशद्रोही है गद्दार है। जो प्रधानमंत्री अपनी पत्नी का नहीं हुआ वह देश का कैसे होगा। यह देश का दुर्भाग्य है कि भारत को नरेंद्र मोदी जैसा नपुंसक प्रधानमंत्री मिला। कृष्णन ने कहा कि केंद्र सरकार हमारी आवाज को दबाना चाहती है, हमारी आवाज को दबाने के लिए यहां पर बस्तर में सीआरपीएफ की तैनाती की गई है। 

हमारे घरों को सीआरपीएफ व छत्तीसगढ़ पुलिस के जवान उजाड़ रहे हैं। हमें बेघर किया जा रहा है हमारी आवाज को दबाया नहीं जा सकता, हम लड़ेंगे अपने हक के लिए।

उन्होंने कहा कि केंद्र में बैठी तानाशाही सरकार सरकार को हमें उखाड़ फेंकना होगा। हमें दूसरी आजादी के लिए हथियार उठाना होगा, हम आज भी गुलाम हैं। उन्होंने महिलाओं से कहा अगर अपने हक के लिए बंदूक भी उठाना पड़े तो उन्हें उठाना चाहिए। कविता कृष्णन ने कहा बस्तर में हमारे युवा आदिवासी भाइयों को फर्जी एनकाउंटर में मारा जा रहा है इस बात को संयुक्त राष्ट्र संघ में भी उठाया जाएगा।

कविता कृष्णन ने अपने इस महिला सम्मेलन में आदिवासी महिलाओं को संबोधित करते हुए कहा कि हम महिलाओं को फ्री सेक्स की आजादी चाहिए। हमें किसी भी पुरुष के साथ सेक्स करने की आजादी चाहिए। हम महिलाएं किसी भी मनपसंद पुरुष के साथ शारीरिक संबंध बनाकर अपने काम वासना की पूर्ति कर सकें।

जब पुरुष किसी भी महिला के साथ शारीरिक संबंध बना सकता है, तो हम महिलाओं को भी अधिकार होना चाहिए, हम लोग भी किसी भी मनचाहे पुरुष के साथ शारीरिक संबंध बना सकें। कविता कृष्णन ने कहा कि बस्तर में सीआरपीएफ बामपंथी उग्रवादियों के नाम पर दलित आदिवासियों का एनकाउंटर कर रही है। आदिवासी महिलाओं के साथ सीआरपीएफ के जवान जबरदस्ती बलात्कार करते हैं। हम इसका पुरजोर विरोध करते हैं।

livetoday.online से साभार…

You May Also Like

English News