पूरी तरह टूट सी गयी है कांग्रेस सरकार, सरकार ने 2 और विधायक भेजे बंगलुरु…

गुजरात में अपने छह विधायकों के टूटने से परेशान कांग्रेस ने 2 और विधायकों को बंगलुरु भेज दिया है. अब कुल 42 विधायक बंगलुरु पहुंच चुके हैं. शक्ति सिंह गोहिल और जीतू चौधरी आज सुबह बंगलुरु के रिसोर्ट पहुंचे.

पूरी तरह टूट सी गयी है कांग्रेस सरकार, सरकार ने 2 और विधायक भेजे बंगलुरु...

इससे पहले शनिवार को 40 विधायकों को बंगलुरु भेजा गया था. राज्यसभा चुनाव तक सभी विधायकों को यहां रखा जाएगा. शनिवार को दो जत्थे में कांग्रेसी विधायक बंगलुरु पहुंचे. पहले 31 विधायक इंडिगो की फ्लाइट से अहमदाबाद से बंगलुरु पहुंचे. उसके बाद राजकोट से 9 विधायक भी बंगलुरु पहुंचे. कांग्रेस के एक विधायक के मुताबिक कांग्रेस को तोड़ने के अपने गेम प्लान में बीजेपी सफल न हो पाए, इसके लिए पार्टी के विधायकों को बंगलुरु भेजा गया है. विधायक ने कहा कि कांग्रेस के विधायकों को बीजेपी पैसे और पुलिसिया दबाव आदि के द्वारा तोड़ने का प्रयास कर रही है.

अहमद पटेल की सदस्यता खतरे में!

गुजरात कांग्रेस के कई विधायकों के एक साथ बीजेपी में शामिल होने के साथ ही अहमद पटेल की राज्यसभा सदस्यता को लेकर खतरा बढ़ गया है. शंकर सिंह वाघेला समर्थक विधायकों की संख्या 16 बताई जा रही है. ऐसे में अगर ये सभी 16 विधायक इस्तीफा देते हैं तो अहमद पटेल के लिए चुनाव जीतना मुश्किल हो जाएगा. पटेल ने राज्यसभा के लिए कांग्रेस के उम्मीदवार के रूप में नामांकन भर रखा है.

शंकर सिंह वाघेला के बाद कांग्रेस को बड़ा झटका उस समय लगा, जब बलवंत सिंह, तेजश्री पटेल और पीआई पटेल ने भी पार्टी छोड़कर बीजेपी ज्वॉइन कर लिया. राज्यसभा चुनाव से पहले कांग्रेस के विधायकों के बीजेपी में शामिल होने से अहमद पटेल का जीतना मुश्किल हो सकता है. वहीं, कांग्रेस का कहना है कि बीजेपी खरीद-फरोख्त की राजनीति कर रही है. मालूम हो कि आठ अगस्त को गुजरात में राज्यसभा की तीन सीटों के लिए मतदान होना है.

गुजरात में विधायकों की खरीद-फरोख्त के आरोपों को लेकर कांग्रेस ने शनिवार शाम चुनाव आयोग का दरवाजा खटखटाया. जिसके बाद आयोग ने गुजरात सरकार से इस मामले में सोमवार तक जवाब देने को कहा है. इसके साथ ही चुनाव आयोग ने सभी विधायकों और उनके परिवार को पर्याप्त सुरक्षा मुहैया कराने के भी निर्देश दिए हैं. दरअसल कांग्रेस का एक प्रतिनिधिमंडल शनिवार को चुनाव आयोग पहुंचा, जिसमें राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा, अभिषेक मनु सिंघवी, विवेक तंखा और मनीष तिवारी शामिल थे. चुनाव आयोग में करीब 20 मिनट चली इस बैठक में कांग्रेस नेताओं ने अपनी शिकायतें रखीं.

loading...

You May Also Like

English News