प्यार में नार्वे के एक मंत्री भूले प्रोटोकॉल आैर छोड़ना पड़ा पद

डेलीमेल की एक खबर की माने तो दिल के मामले में नॉर्वे के मत्स्यपालन मंत्री पेर सेंडबर्ग को विवादों के चलते इस्तीफा देना पड़ा है। पता चला है कि पेर अपनी प्रेमिका पूर्व मिस ईरान बहारीह लेटनेस के साथ जुलाई में छुट्टियां मनाने ईरान चले गए थे। हालांकि ये कोर्इ अपराध नहीं है लेकिन वे इस बारे में प्रधानमंत्री कार्यालय को सूचित करना तो भूल ही गए साथ ही अपना आधिकारिक कामों के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला फोन भी साथ ले गए। इस हरकत को सुरक्षा प्रोटोकॉल का उल्लंघन माना गया है क्योंकि नॉर्वे की गुप्तचर एजेंसी चीन और रूस के साथ ईरान को भी जासूसी कराने वाले देशों की सूची में रखती रही है। अब क्या कहा जाए कि दिल के हाथों मजबूर हो कर पेर सारे कायदे कानून भूल गए।  डेलीमेल की एक खबर की माने तो दिल के मामले में नॉर्वे के मत्स्यपालन मंत्री पेर सेंडबर्ग को विवादों के चलते इस्तीफा देना पड़ा है। पता चला है कि पेर अपनी प्रेमिका पूर्व मिस ईरान बहारीह लेटनेस के साथ जुलाई में छुट्टियां मनाने ईरान चले गए थे। हालांकि ये कोर्इ अपराध नहीं है लेकिन वे इस बारे में प्रधानमंत्री कार्यालय को सूचित करना तो भूल ही गए साथ ही अपना आधिकारिक कामों के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला फोन भी साथ ले गए। इस हरकत को सुरक्षा प्रोटोकॉल का उल्लंघन माना गया है क्योंकि नॉर्वे की गुप्तचर एजेंसी चीन और रूस के साथ ईरान को भी जासूसी कराने वाले देशों की सूची में रखती रही है। अब क्या कहा जाए कि दिल के हाथों मजबूर हो कर पेर सारे कायदे कानून भूल गए।    पार्टी की विचारधारा भी हुर्इ नजरअंदाज   खास बात ये है कि सेंडबर्ग ने अपनी ही पार्टी की लाइन पार कर ली है। उनका राजनैतिक दल प्रोग्रेस पार्टी ही एंटी इमिग्रेशन पार्टी कहलाता है। यही वजह है कि उनके इस कदम की सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों उनकी आलोचना कर रहे थे। नॉर्वे में प्रोग्रेस पार्टी ने कंजरवेटिव और लिबरल्स के साथ मिलकर सरकार बनाई थी आैर प्रोग्रेस पार्टी में सेंडबर्ग का नंबर दूसरा माना जाता था। इसी के चलते वहां की प्रधानमंत्री अरना सोलबर्ग ने भी नाराजगी जताते हुए कहा है कि पेर को इस्तीफा देने के लिए कहा गया था, ये सही फैसला था। वे एक जिम्मेदार पद पर थे, इसके बावजूद उन्होंने सुरक्षा के मुद्दे पर समझदारी नहीं दिखाई।

पार्टी की विचारधारा भी हुर्इ नजरअंदाज 

खास बात ये है कि सेंडबर्ग ने अपनी ही पार्टी की लाइन पार कर ली है। उनका राजनैतिक दल प्रोग्रेस पार्टी ही एंटी इमिग्रेशन पार्टी कहलाता है। यही वजह है कि उनके इस कदम की सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों उनकी आलोचना कर रहे थे। नॉर्वे में प्रोग्रेस पार्टी ने कंजरवेटिव और लिबरल्स के साथ मिलकर सरकार बनाई थी आैर प्रोग्रेस पार्टी में सेंडबर्ग का नंबर दूसरा माना जाता था। इसी के चलते वहां की प्रधानमंत्री अरना सोलबर्ग ने भी नाराजगी जताते हुए कहा है कि पेर को इस्तीफा देने के लिए कहा गया था, ये सही फैसला था। वे एक जिम्मेदार पद पर थे, इसके बावजूद उन्होंने सुरक्षा के मुद्दे पर समझदारी नहीं दिखाई।

You May Also Like

English News