प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 21 अगस्त को लॉन्च करेंगे इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 21 अगस्त को इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक को लॉन्च करेंगे। एक अधिकारी ने बताया है कि इसके बाद हर जिले में कम से कम एक शाखा होगी जो ग्रामीण क्षेत्रों में वित्तीय सेवाओं पर फोकस करेगा।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 21 अगस्त को इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक को लॉन्च करेंगे। एक अधिकारी ने बताया है कि इसके बाद हर जिले में कम से कम एक शाखा होगी जो ग्रामीण क्षेत्रों में वित्तीय सेवाओं पर फोकस करेगा।  संचार मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि प्रधानमंत्री ने आईपीपीबी को लॉन्च करने के लिए 21 अगस्त तक समय दिया है। इनमें से बैंक की दो शाखाएं पहले से ही ऑपरेशनल हो चुकी हैं। शेष 648 शाखाएं देश भर में हर जिले में लॉन्च होगी। अधिकारी ने कहा कि IPPB 1.55 लाख डाकघर शाखाओं के जरिये ग्रामीण इलाकों के लोगों को बैंकिंग और वित्तीय सेवाएं उपलब्ध कराएगा।   सरकार की ओर से इस पेमेंट बैंक का इस्तेमाल नरेगा के भत्तों को बांटने, सब्सिडी और पेंशन आदि देने के काम में इस्तेमाल किया जाएगा। इसके जरिये कस्टमर फोन रीचार्ज, बिजली के बिल का भुगतान, कॉलेज की फीस भरने, डीटीएस सर्विस सहित करीब 100 फर्मों के भुगतान कर सकेंगे।  अधिकारी ने कहा कि सरकार इस साल के अंत 1.55 लाख डाकघर शाखाओं को IPPB सेवाओं से जोड़ने का प्रयास कर रही है। इससे देश का सबसे बड़ा बैंकिंग नेटवर्क अस्तित्व में आएगा जिसकी गांवों के स्तर तक मौजूदगी होगी।  आईपीपीबी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुरेश सेठी ने पिछले सप्ताह कहा था कि 650 शाखाओं के साथ IPPB शुरू होगी। इसके अतिरिक्त डाकघरों में 3,250 एक्सेस पॉइंट होंगे और साथ ही 11,000 डाकिये होंगे। ये ग्रामीण और शहरी इलाकों दोनों में घर के दरवाजे पर बैंकिंग सेवाएं उपलब्ध कराएंगे। IPPB को 17 करोड़ डाक बचत बैंक खाते को अपने खाते से जोड़ने की अनुमति है। इसके जरिए ग्राहकों की सुविधा बढ़ जाएगी और वो कोर बैंकिंग से जुड़ जाएंगे

संचार मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि प्रधानमंत्री ने आईपीपीबी को लॉन्च करने के लिए 21 अगस्त तक समय दिया है। इनमें से बैंक की दो शाखाएं पहले से ही ऑपरेशनल हो चुकी हैं। शेष 648 शाखाएं देश भर में हर जिले में लॉन्च होगी। अधिकारी ने कहा कि IPPB 1.55 लाख डाकघर शाखाओं के जरिये ग्रामीण इलाकों के लोगों को बैंकिंग और वित्तीय सेवाएं उपलब्ध कराएगा।

सरकार की ओर से इस पेमेंट बैंक का इस्तेमाल नरेगा के भत्तों को बांटने, सब्सिडी और पेंशन आदि देने के काम में इस्तेमाल किया जाएगा। इसके जरिये कस्टमर फोन रीचार्ज, बिजली के बिल का भुगतान, कॉलेज की फीस भरने, डीटीएस सर्विस सहित करीब 100 फर्मों के भुगतान कर सकेंगे।

अधिकारी ने कहा कि सरकार इस साल के अंत 1.55 लाख डाकघर शाखाओं को IPPB सेवाओं से जोड़ने का प्रयास कर रही है। इससे देश का सबसे बड़ा बैंकिंग नेटवर्क अस्तित्व में आएगा जिसकी गांवों के स्तर तक मौजूदगी होगी।

आईपीपीबी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुरेश सेठी ने पिछले सप्ताह कहा था कि 650 शाखाओं के साथ IPPB शुरू होगी। इसके अतिरिक्त डाकघरों में 3,250 एक्सेस पॉइंट होंगे और साथ ही 11,000 डाकिये होंगे। ये ग्रामीण और शहरी इलाकों दोनों में घर के दरवाजे पर बैंकिंग सेवाएं उपलब्ध कराएंगे। IPPB को 17 करोड़ डाक बचत बैंक खाते को अपने खाते से जोड़ने की अनुमति है। इसके जरिए ग्राहकों की सुविधा बढ़ जाएगी और वो कोर बैंकिंग से जुड़ जाएंगे

You May Also Like

English News