फार्म हाउस का गार्ड की गोली मारकर हत्या

fire_murder_650_102016101355
लखनऊ ,7 नवम्बर। काकोरी इलाके में रहने वाला एक सिक्योरिटी गार्ड की हत्या कर दी गयी। गार्ड का शव फार्म हाउस में पड़ा मिला। गांव वालों का कहना है कि गार्ड की हत्या उसकी बंदूक से गोली मारकर की गयी है। फिलहाल अभी तक गार्ड की बंदूक भी नहीं मिल सकी है। इस मामले में पुलिस ने एक संदिग्ध को हिरासत में ले लिया है, जबकि अन्य की तलाश में जुटी है। परिवार वालों ने तीन ठेकेदारों व एक मजदूर पर गार्ड की हत्या करने का आरोप लगाया है। इंस्पेक्टर काकोरी विजय यादव ने बताया कि गुदडिय़ा गांव में 40 वर्षीय श्रीराम यादव अपने परिवार के साथ रहता है। वह रहमानखेड़ा में कृषि विभाग के फार्म हाउस पर कुछ दिनों से सिक्योरिटी गार्ड का काम कर रहा है। फार्म हाउस में मौजूदा समय में पीलर लगने का काम हो रहा है। ठेकेदार राहुल, बाबू व संदीप ने श्रीराम को बतौर गार्ड वहां रखा है। परिवार वालों ने बताया कि शनिवार की सुबह श्रीराम यादव रोज की तरह अपनी ड्यूटी पर गया पर वापस नहीं लौटा। रविवार को कुछ गार्ड श्रीराम यादव के घर पहुंचे और बताया कि श्रीराम की साइकिल, टार्च व चप्पल फार्म हाउस में पड़ी है और वह गायब है। इसके बाद परिवार के लोग उसको तलाशते हुए फार्म हाउस पहुंचे पर कुछ पता नहीं चल सका। परिवार के लोग फौरन ही परिवार के लोग काकोरी पुलिस के पास पहुंच गये और मामले की शिकायत की। परिवार वालों का आरोप है कि श्रीराम ने ठेकेदारों से अपना वेतन मांगा था और इसी बात को लेकर उन लोगों ने उसको मारापीटा और हत्या कर शव को कहीं फेंक दिया। मामले की गंभीरता को देखते हुए काकोरी पुलिस ने श्रीराम की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कर ली है। पुलिस ने इस मामले में जब एक संदिग्ध को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने बताया कि ठेकेदार व उसके लोगों ने गार्ड को बुरी तरह पीटा था और फिर शराब पीलाकर उसकी हत्या कर दी। इस बात का पता चलने के बाद पुलिस की टीम व गांव के लोग फार्म हाउस पहुंच गये। पुलिस व गांव वालों ने श्रीराम की तलाश शुरू की तो कुछ ही देर में फार्म हाउस परिसर में ही श्रीराम का शव पुलिस को मिल गया। पुलिस ने छानबीन के बाद उसके शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। काकोरी पुलिस ने इस मामले में तीनों ठेकेदारों व एक मजदूर के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है। पुलिस की टीम अब आरोपियों की तलाश में लगी हैं। पुलिस के सूत्र बताते हैं कि वारदात को अंजाम देने के बाद सभी आरोपी सीतापुर भाग गये हैं। पुलिस की एक टीम उनकी तलाश में सीतापुर भेजी गयी है। एसपी ग्रामीण प्रताप गोपेन्द्र यादव ने बताया कि श्रीराम यादव की हत्या कैसे की गयी है इस बात का पता पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आने के बाद ही पता चल सकेगा। लोगों ने पुलिस का जीप को घेरा जाम लगाकर किया प्रदर्शन रेहमानखेड़ा फार्म हाउस में गार्ड श्रीराम की हत्या से नाराज लोगों ने परिवार वालों के साथ हरदोई रोड पर पुलिस की जीप को घेर लिया। इसके बाद सड़क पर जाम लगाकर प्रदर्शन करने लगे। आक्रोशित लोगों ने  पुलिसकर्मियों से आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग कर रहे थे। लोगों का आरोप है कि पुलिस को रात 9  बजे ही श्रीराम के साथ अनहोनी होने की सूचना दी थी। उस समय पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। रविवार को दबाव पडऩे पर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर छानबीन शुरू की। ग्रामीणों का कहना है कि पुलिस की लापरवाही से ही मुख्य आरोपी फरार हो गए हैं। ग्रामीणों के प्रदर्शन के कारण हरदोई रोड के दोनों तरफ  काफी लम्बा जाम लग गया, देर शाम तक जाम की स्थिति बनी रही। पहले पुरानी बिल्डिंग में छुपाकर रखा गया था शव रविवार की सुबह जब परिवार के लोग गांव वालों के साथ फार्म हाउस श्रीराम को तलाशते हुए पुलिस को वहां कुछ भी नहीं मिला। इसी बीच पुलिस ने फार्म हाउस से एक संदिग्ध को पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया। पुलिस ने परिवार वालों को श्रीराम के गायब होने की खबर दोनों वाले दोनों चौकीदार को भी पूछताछ के लिए बुलाया। इसके कुछ देर बाद ही दोपहर के समय ग्रामीणों को फार्म हाउस की पुरानी बिल्डिंग से 50 मीटर दूर आम के पेड़ के नीचे पत्तों से ढाक कर रखा गया श्रीराम का शव मिला। शव मिलते ही पूरे इलाके में हड़कम्प मच गया। ग्रामीणों का कहना है कि जहां शव मिल,वहां से वह लोग कई बार निकले थे, तब शव उस जगह पर नहीं था। पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से छानबीन शुरू की तो पता चला कि शव को पहले पुरानी बिल्डिंग की छत पर छुपा कर रखा गया था। पुलिस और ग्रामीणों को हरकत में आता देख आरोपियों  ने शव पेड़ के नीचे रखवा दिया। चार संदिग्धों को ग्रामीणों ने बंधक बनाया ग्रामीण शव मिलने के बाद पुरानी बिल्डिंग की छत पर पहुंचे तो अंदर चार संदिग्ध दिखे। पुलिस ने चारों को बिल्डिंग के अंदर ही बंधक बना दिया। ग्रामीण काफी गुस्से में थे। माहौल बिगडऩे की आशंका के चलते पुलिस टीम पीछे के रास्ते से चारों आरोपियों को चुपके से निकाल ले गयी। इन चारों से भी पूछताछ की जा रही है। बिल्डिंग के अंदर बर्तनों में नॉनवेज व खाने पीने का सामान रखा हुआ था। ग्रामीणों ने बताया कि घटनास्थल से 100 मीटर की दूरी पर उलरापुर जाने वाले रास्ते पर जंगल में खून के छींटे मिले हैं। वहां पर संघर्ष के निशान भी देखने को मिले हैं।

 
 
 
 

You May Also Like

English News