फिर शुरू हुई ट्रंप औरकिम जोंग उन की ज़ुबानी जंग…..

नॉर्थ कोरिया और अमेरिका के बीच अब ज़ुबानी जंग इस स्तर पर आ गई है कि दोनों देशों के राष्ट्राध्यक्षों ने बच्चों की तरह लड़ना शुरू कर दिया है. नए साल पर अमेरिका को धमकाते हुए नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन ने कहा था कि उनके परमाणु हथियार अब अमेरिका के किसी भी शहर तक पहुंच सकते हैं और उसका बटन उसकी टेबल पर रहता है. तो इसके जवाब में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने किम को धमकाते हुए कहा कि ये बटन उनके पास भी है और ये, उसके बटन से न सिर्फ बड़ा है बल्कि ज़्यादा ताकतवर भी है.फिर शुरू हुई ट्रंप औरकिम जोंग उन की ज़ुबानी जंग.....

फिर शुरू हुई ट्रंप और किम की ज़ुबानी जंग!

उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन ने ऐलान किया ‘पूरा अमेरिका हमारे परमाणु हथियारों की जद में हैं और न्यूक्लियर बटन हमेशा मेरी डेस्क पर होता है.’ अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा ‘मेरे पास तुमसे बड़ा और ताकतवर न्यूक्लियर बटन है, और काम भी करता है.’ किम जोंग उन के परमाणु बटन के जबाब में डोनल्ड ट्रंप का उससे भी बड़ा ‘बटन’ सामने आया है. अमेरिकी राष्ट्रपति ने किम को भड़काने वाला बयान दिया है. ट्रंप ने कहा ‘मेरे पास तुमसे बड़ा और ताकतवर न्यूक्लियर बटन है.’

तीसरे विश्वयुद्ध के लिए जिम्मेवार होंगे किम और ट्रंप!

परमाणु बमों से लैस दो देशों के राष्ट्राध्यक्ष अगर इस तरह झगड़ने लगे तो आप खुद अंदाज़ा लगाइये कि अंजाम-ए-गुलिस्तां क्या होगा. कहने का मतलब ये है कि ऐसे बयानों से क्या न्यूक्लियर वॉर के खत्म होने और शांति के कायम होने की उम्मीद क्या की जा सकती है. अगर नहीं, तो क्या दुनिया विश्वयुद्ध का इंतज़ार करे. लेकिन अगर दुनिया पर संकट के बादल छा जाएं तो उसके ज़िम्मेदार यही दो लोग होंगे. इनमें से एक वो है जिसे दुनिया तानाशाह कहती है और उसकी ज़िंदगी का एक ही मक़सद इतने परमाणु हथियार बनाना कि अमेरिका का ज़र्रा ज़र्रा तबाह और बर्बाद कर सके. और दूसरी तरफ वो है जिसे दुनिया का सबसे ताकतवर राष्ट्रपति कहा जाता है और उसकी भी ज़िंदगी का मक़सद है किम जोंग उन बर्बाद करना है.

मगर दोनों जिस तरह एक दूसरे पर अपने बयानों से हमलों की बौछार कर रहे हैं उससे लगता है कि ये इन दोनों की निजी जंग है. लेकिन ये यकीन मानिए कि जंग हुई तो ये सिर्फ इन दोनों में नहीं होगी बल्कि इसकी जद में तमाम दुनिया आ जाएगी.

किम की धमकी 

आपको बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप का ये बयान नॉर्थ कोरिया के मार्शल किम जोंग उन के नए साल पर राष्ट्र के नाम संबोधन का जवाब है जिसमें उसने कहा था कि पूरा अमेरिका उसके परमाणु हथियारों की जद में रहता है और न्यूक्लियर बटन उसकी टेबल पर. किम के इसी बयान के जवाब में राष्ट्रपति ट्रंप ने एक ट्विट कर पलटवार किया है.

ट्रंप का जवाब

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने कहा ‘उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने अभी कहा है कि परमाणु बम का बटन हमेशा उनकी डेस्क पर रहता है. क्या उसके खत्म हो चुके और भुखमरी से परेशान राज्य से कोई उसे बताएगा कि परमाणु बम का बटन मेरे पास भी है. और ये उसके बम से कहीं बड़ा और ताकतवर है, मेरा बटन काम भी करता है.’

ट्रंप ने गर्माया माहौल

तसव्वुर कीजिए कि दो देश परमाणु बमों की धमकी जिस छोटे और बड़े बटन के अंदाज़ में दे रहे हैं, वो कितनी घातक है. हालांकि अपने बयान में नॉर्थ कोरिया के तानाशाह ने ये ज़रूर कहा था कि वो शांति चाहता है और तब तक न्यूक्लियर शक्ति का इस्तेमाल नहीं करेगा जब तक अमेरिका के खिलाफ जब तक कोई युद्ध नहीं होता. मगर शांति की कोशिश करने के बजाए अमेरिकी राष्ट्रपति ने अपने इस नए बयान से इस मामले को और ज़्यादा गरमा दिया है.

विश्वशांति के लिए खतरा

जानकार मान रहे हैं कि दोनों देशों के राष्ट्राध्यक्षों का ये रवैय्या न सिर्फ विश्वशांति के लिए खतरा है बल्कि घातक भी साबित हो सकता है. आपको बता दें कि ट्रंप और किम के इन बयानों में ये गर्मी उत्तर कोरिया की उस ह्वासोंग-15 मिसाइल के टेस्ट के बाद आई है जिसकी मारक क्षमता 13 हज़ार किमी है. यानी ये मिसाइल अमेरिका के किसी भी शहर तक मार कर सकती है. इसके सफल परीक्षण के बाद से जहां किम के परमाणु कार्यक्रम में तेजी आ गई वहीं अमेरिका की चिंताएं बढ़ गई हैं.

You May Also Like

English News