फिर से रिंगिंग बेल्स डायरेक्टर आया सामने, कहा- हमारे मॉडल जैसा है JioPhone

पिछले साल देश भर में सबसे सस्ते स्मार्टफोन Freedom 251 की जम कर चर्चा हुई. करोड़ों लोगों ने इस स्मार्टफोन के लिए बुकिंग भी करा ली, लेकिन यह स्मार्टफोन कितने लोगों को मिला फिलहाल कोई नहीं जानता. कंपनी दावा करती रही है कि फोन डिलिवर किए जा रहे हैं, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. मोहित गोयल नाम के एक शख्स ने इस Ringing Bells नाम की कंपनी शुरू की थी. बाद में स्मार्टफोन बुकिंग में धोखाधड़ी करने और फोन डिलिविर न करने के मामले में उन्हें गिरफ्तार भी किया गया. लगभग 6 महीने जेल में भी रहे और बाद उन्हें रिहा किया गया.फिर से रिंगिंग बेल्स डायरेक्टर आया सामने, कहा- हमारे मॉडल जैसा है JioPhoneअब बर्फबारी में भी गर्मी का अहसास कराएगा ये सौर ऊर्जा संयंत्र….

अब मोहित गोयल का बयान एक बार फिर से आया है जिसमें उन्होंने उम्मीद जताई है कि उन्हें सरकार से मदद मिलेगी और वो अगले साल मार्च-अप्रैल तक कस्टमर्स को Freedom 251 स्मार्टफोन डिलिवर कर पाएंगे.

मोहित गोयल का कहना है कि सरकार ने उनके द्वारा किए गए मेक इन इंडिया और स्टार्टअप इंडिया कमिटमेंट के बावजूद भी सपोर्ट नहीं किया है. अब वो सरकार से अपने वादे पूरे करने के लिए मदद मांग रहे हैं. उन्होंने यह भी बताया है कि क्यों वो कस्टमर्स को Freedom 351 डिलिवर करने में फेल हो गए.

मोहित गोयल ने रिंगिंग बेल्स प्राइवेट लिमिटेड कंपनी की शुरुआत की थी और दावा किया कि वो दुनिया का सबसे सस्ता स्मार्टफोन कस्टमर्स को देंगे. उन्होंने कहा है पिछले साल दिल्ली के रहने वाले दो लोग ने कथित तौर पर उनके 3.5 करोड़ रुपये फोन डिलिवर करने के लिए लिए. लेकिन उन दोनों ने उन्हें ठग लिया और हैंडसेट डिलिवर नहीं किया. इसलिए वो फोन डिलिवर नहीं कर पाए. ऐसा उनका कहना है.

न्यूज एजेंसी IANS से उन्होंने कहा है, ‘मैने उन दोनों 3.5 करोड़ रुपये दिए थे और इसके बदले में उन्होंने मुझे धोखा दिया है वो पैसा हजम कर गए और फोन डिलिवर नहीं किया. पिछले साल फरवरी में कुछ डिस्ट्रिब्यूटर्स ने मेरे खिलाफ केस किया और मैं इस वजह से छह महीने तक जेल में रहा. अब नई गिरफ्तारी से लोगों को यह पता चलेगा कि मैने फोन डिलिवर करने का वादा क्यों पूरा नहीं किया है’ 

मोहित गोयल अब बाहर हैं और उनका कहना है कि उनके मॉडल पर अब बड़ी कंपनियों ने सस्ते स्मार्टफोन्स बेचने शुरू कर दिए हैं. उन्होंने कहा है, ‘कार्बन जैसी कंपनियां 1,300 रुपये में स्मार्टफोन बेच रही हैं. जियो का मॉडल ऐडवांस में 1,500 रुपये देकर स्मार्टफोन देने का है जो हमारे जैसा ही है. वो बड़ी कंपनियां हैं उनके पास पैसे ज्यादा हैं, इसलिए वो ऐसा कर सकते हैं, लेकिन  लोग उनसे ये सवाल क्यों नहीं पूछते हैं कि वो कंपनियां इतना सस्ता स्मार्टफोन बना कैसे रही हैं?’

गौपरतलब है कि मोहित गोयल ने FIR दर्ज की थी और रविवार को पुलिस ने दो लोगों- विकास शर्मा और जीतू को गिरफ्तार किया है. गोयल का कहना है कि फिलहाल कुंपनी ने प्रेसिडेंट अशोक चढ्ढा अभी भी जेल में हैं और जब वो बरी होकर आएंगे तो हम मार्च-अप्रैल तक लोगों को स्मार्टफोन डिलिवर करेंगे.  

मोहित गोयल को इसी साल फरवरी में गाजियाबाद के डिस्ट्रिब्यूटर द्वारा लगाए किए गए केस के बाद गिरफ्तार किया गया था. आरोप था कि रिंगिंग बेल्स ने उनके साथ 16 लाख की धोखाधड़ी की है. हालांकि इलाहाबाद हाई कोर्ट ने बाद में मोहित गोयल को बेल दे दी.

You May Also Like

English News