फेसबुक ने इन मुसीबतों से बचने के लिए तैयार किया ये टूल्स…

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक ने कुछ नए टूल्स का ऐलान किया है. ये टूल्स कंपनी ने खास तौर पर उत्पीड़न से यूजर्स को बचाने के लिए लाए हैं कंपनी के मुताबिक यह लोगों के फीडबैक के बाद तैयार किय गया है.फेसबुक ने इन मुसीबतों से बचने के लिए तैयार किया ये टूल्स...अब Facebook बतायेगा कहां-कहां अपलोड़ हो रही हैं आपको फोटो, जानिए कैसे?

इस नए टूल के तहत अनचाहे फ्रेंड रिक्वेस्ट और मैसेजों से मुक्ति दिलाएंगे. कई बार आप किसी को फेसबुक या मैसेंजर से ब्लॉक करते हैं तो वो फिर से नया अकाउंट बना कर आपको फ्रेंड रिक्वेस्ट करता है.  

मैसेंजर के कनवर्सेशन को इग्नोर करने के लिए एक Ignore ऑप्शन दिया गया है. इसे यूज करके किसी भी कनवर्सेशन को इनबॉक्स से बाहर कर सकते हैं. खास बात ये है कि ऐसा करने से सेंडर ब्लॉक भी नहीं होगा और न ही उसे इस बात की जानकारी मिलेगी की आपने उसके मैसेज को इग्नोर लिस्ट में डाला है.

फेसबुक ने कहा है कि वो बुलिंग और उत्पीड़न को फेसबुक पर रोकता है और लोगों को ऑप्शन दिया जाता है कि अगर कोई उत्पीड़न कर रहा है या परेशान कर रहा है तो फेसबुक को रिपोर्ट करें ताकि फेसबुक इसे ठीक कर सके. कंपनी ने ये भी कहा है कि वो रिपोर्ट्स को रिव्यू करता है और गलत अकाउंट और यूजर्स को ब्लॉक भी करता है जो कंपनी की कम्यूनिटी स्टैंडर्ड का उल्लंघन करते हैं.

अनचाहे कॉन्टैक्ट से बचने के लिए टूल

फेसबुक ने कहा है, ‘हमने लोगों से सुना है कि उन्होंने किसी को ब्लॉक किया  और वो फिर से दूसरे अकाउंट से ऐड होने की कोशिश करता है. इस चीज से बचने के लिए हम मौजूदा फीचर्स पर काम कर रहे हैं जो फर्जी और गलत फेसबुक अकाउंट से बचाता है’

फेसबुक के मुताबिक यह ऑटोमेटेड फीचर्स फर्जी अकाउंट को जल्दी पहचानने और हर दिन ऐसा लाखों अकाउंट को ब्लॉक करने में मदद करते हैं. हालांकि इस फीचर के बावजूद भी कई बार पहले से ब्लॉक किए गए यूजर्स नए अकाउंट बना कर लोगों को परेशान करते हैं.

इन सब से बचने के लिए फेसबुक ने कहा है कि वो अब कई सिग्नल्स का यूज कर रहा है जिसमें IP अड्रेस शामिल है. इससे फेसबुक ये समझ पाता है कि ब्लॉक किया गया यूजर एक IP अड्रेस से दूसरा अकाउंट बना कर फिर से उसे परेशान न कर सके जिसने उसे ब्लॉक किया है.

इग्नोरिंग मैसेजेस  

फेसबुक मैसेज पर टैप करके किसी मैसेज को इग्नोर कर सकते हैं. यहां एक Ignore ऑप्शन मिलता है. इसे क्लिक करते ही वो मैसेज इनबॉक्स से बाहर जाता है और फिल्टर्ड मैसेज में चला जाता है. इसका फायदा ये है कि अगर सेंडर के भेजे गए मैसेज अगर आप पढ़ते भी हैं तो सेंडर को पता नहीं चलता है कि आपने इसे पढ़ा है. यह फिलहाल सिंगल कनवर्सेशन मैसेज में है, लेकिन कंपनी ने कहा है कि आने वाले समय में इसे ग्रुप मैसेजों के लिए भी दिया जाएगा.

You May Also Like

English News