फ्लाइट को नहीं मिली लैंडिंग की अनुमति

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को छत्तीसगढ़ दौरे के दौरान जगदलपुर से रायपुर के लिए उड़ान सेवा की शुभारंभ किया था. शुभारंभ के बाद उड़ान सेवा की जगदलपुर से रायपुर के लिए पहली टेस्टिंग फ्लाइट ने उड़ान भरी थी.  इसके बाद यह पहली फ्लाइट थी जो बस्तर से विशाखापट्टनम की ओर जा रही थी. लैंडिंग की अनुमति नहीं मिलने के कारण फ्लाइट सेवा को रद्द कारण पड़ा है. विशाखापट्टनम एयरपोर्ट अथॉरिटी ने नेवल क्लीयरेंस नहीं होने की बात कहते हुए अनुमति देने से इनकार कर दिया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को छत्तीसगढ़ दौरे के दौरान जगदलपुर से रायपुर के लिए उड़ान सेवा की शुभारंभ किया था. शुभारंभ के बाद उड़ान सेवा की जगदलपुर से रायपुर के लिए पहली टेस्टिंग फ्लाइट ने उड़ान भरी थी.  इसके बाद यह पहली फ्लाइट थी जो बस्तर से विशाखापट्टनम की ओर जा रही थी. लैंडिंग की अनुमति नहीं मिलने के कारण फ्लाइट सेवा को रद्द कारण पड़ा है. विशाखापट्टनम एयरपोर्ट अथॉरिटी ने नेवल क्लीयरेंस नहीं होने की बात कहते हुए अनुमति देने से इनकार कर दिया.     नेवल क्लीयरेंस न मिलने के कारण अचानक एयर ओडिशा को जगदलपुर की पहली हवाई यात्रा रद्द करनी पड़ी. विमान सेवा के रद्द होने के बाद यात्रियों को निराश होना पड़ा है. जगदलपुर से विशाखापट्टनम की यात्रा के लिए कई यात्रियों ने टिकट ले रखे थे. इनमें वो यात्री भी शामिल थे जो इलाज के सिलसिले में  विशाखापट्टनम  जाना चाह रहे थे.     बताया जा रहा है कि विशाखापट्टनम एयरपोर्ट पर विमान उतारने के लिए अनुमति नहीं ली गई थी. इसलिए विशाखापट्टनम विमानतल पर विमान उतर नहीं सका. विशाखापट्टनम में विमान की लैंडिंग के लिए रक्षा मंत्रालय से अनुमति लेना होती है क्योंकि विशाखापट्टनम एयरपोर्ट नेवी के आधीन अाता है.  इसलिए यहां  लैंडिंग के लिए नेवल क्लीयरेंस लेना होता है.

नेवल क्लीयरेंस न मिलने के कारण अचानक एयर ओडिशा को जगदलपुर की पहली हवाई यात्रा रद्द करनी पड़ी. विमान सेवा के रद्द होने के बाद यात्रियों को निराश होना पड़ा है. जगदलपुर से विशाखापट्टनम की यात्रा के लिए कई यात्रियों ने टिकट ले रखे थे. इनमें वो यात्री भी शामिल थे जो इलाज के सिलसिले में  विशाखापट्टनम  जाना चाह रहे थे. 

बताया जा रहा है कि विशाखापट्टनम एयरपोर्ट पर विमान उतारने के लिए अनुमति नहीं ली गई थी. इसलिए विशाखापट्टनम विमानतल पर विमान उतर नहीं सका. विशाखापट्टनम में विमान की लैंडिंग के लिए रक्षा मंत्रालय से अनुमति लेना होती है क्योंकि विशाखापट्टनम एयरपोर्ट नेवी के आधीन अाता है.  इसलिए यहां  लैंडिंग के लिए नेवल क्लीयरेंस लेना होता है.

You May Also Like

English News