बंगला तोड़फोड़ मामला : अखिलेश की मुश्किलें बढ़ेंगी, जांच के लिए कमेटी बनेगी

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने जबसे सरकार बंगला खाली किया है, जबसे उनकी मुश्किलें कम होने का नाम ही नहीं ले रही है. उनकी मुश्किलों में आए दिन लगातार इजाफा होते जा रहा हैं. उन्होंने बंगला खाली कर दिया है. लेकिन वे अब भी इसके तहत सुर्ख़ियों में बने हुए है. दरअसल, अखिलेश के बंगला खाली करने के बाद बंगला कई जगह से टूटा हुआ पाया गया था. बंगले की टाइल और दीवारें टूटी हुई थी. साथ ही इसके अलावा नलों की टोटियां भी टूटी हुई थी. बंगला व्यवस्थित नही था. उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने जबसे सरकार बंगला खाली किया है, जबसे उनकी मुश्किलें कम होने का नाम ही नहीं ले रही है. उनकी मुश्किलों में आए दिन लगातार इजाफा होते जा रहा हैं. उन्होंने बंगला खाली कर दिया है. लेकिन वे अब भी इसके तहत सुर्ख़ियों में बने हुए है. दरअसल, अखिलेश के बंगला खाली करने के बाद बंगला कई जगह से टूटा हुआ पाया गया था. बंगले की टाइल और दीवारें टूटी हुई थी. साथ ही इसके अलावा नलों की टोटियां भी टूटी हुई थी. बंगला व्यवस्थित नही था.     अखिलेश ने जब बंगला खाली किया था, तब बंगले की तोड़फोड़ का मामला पूरे देश में सुर्ख़ियों में था. वहीं अब एक बार फिर इस मामले ने तूल पकड़ा है. ताज़ा ख़बरों की माने तो अब बंगले की तोड़फोड़ की जांच हेतु एक कमेटी का गठन किया जाएगा. इसके लिए राज्य संपत्ति विभाग को पत्र लिखकर कमेटी के माध्यम से इसकी जांच कराने की पहल कर दी गई है.     बता दे कि अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री रहते हुए विक्रमादित्य मार्ग का एक सरकारी आवास आवंटित था. जो कि उन्होंने हाल ही में सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के बाद खाली कर दिया था. लेकिन बांग्ला काफी बुरी हालत में मिला था. जिस पर अखिलेश ने सफाई देते हुए खा था कि जो भी मेरा सामान था वह मैं उखाड़ लाया. जबकि शासन को अखिलेश के यह बात हजम नहीं हुई .और अब इसकी पूर्णतः जांच की जाएगी.

अखिलेश ने जब बंगला खाली किया था, तब बंगले की तोड़फोड़ का मामला पूरे देश में सुर्ख़ियों में था. वहीं अब एक बार फिर इस मामले ने तूल पकड़ा है. ताज़ा ख़बरों की माने तो अब बंगले की तोड़फोड़ की जांच हेतु एक कमेटी का गठन किया जाएगा. इसके लिए राज्य संपत्ति विभाग को पत्र लिखकर कमेटी के माध्यम से इसकी जांच कराने की पहल कर दी गई है. 

बता दे कि अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री रहते हुए विक्रमादित्य मार्ग का एक सरकारी आवास आवंटित था. जो कि उन्होंने हाल ही में सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के बाद खाली कर दिया था. लेकिन बांग्ला काफी बुरी हालत में मिला था. जिस पर अखिलेश ने सफाई देते हुए खा था कि जो भी मेरा सामान था वह मैं उखाड़ लाया. जबकि शासन को अखिलेश के यह बात हजम नहीं हुई .और अब इसकी पूर्णतः जांच की जाएगी. 

You May Also Like

English News