बंदूक के साथ ‘सेल्फी’ ले रहा था नाबालिग लड़का, तभी दबा ट्रिगर और बहा दिया अपनों का ही खून

आज के सोशल मीडिया के जमाने में ‘सेल्फी’ का क्रेज युवाओं में बहुत अधिक होता हैं. लेकिन कई बार अधिक लाइक्स पाने और खुद को कूल दिखाने के चक्कर में ये लोग इस हद तक अंधे हो जाते हैं कि सेल्फी के चक्कर में अपनी जान तक गवा बैठते हैं. एक ताजा सर्वे के अनुसार दुनियां भर में सेल्फी की वजह से होने वाली मौते सबसे अधिक भारत में हुई हैं. इसी कड़ी में सेल्फी से हुई मौत का एक दिल दहला देने वाला मामला दिल्ली से आ रहा हैं. यहाँ एक 17 साल के लड़के ने अपने 23 साल के चचेरे भाई को उस समय गलती से गोली मार दी जब वो अपने पिता की बंदूक से फोटो खिचवा रहा था. आइए विस्तार से जाने क्या हैं पूरा मामला…

जानकारी के मुताबिक ये पूरी घटना साउथ दिल्ली के सरिता विहार की हैं. 23 वर्षीय मृतक प्रशांत चौहान दिल्ली के शहदरा में टीचर के पद पर कार्यरत था. वह बीते गुरुवार अपने रिश्तेदार के यहाँ मिलने आया था. तभी यहाँ उनके सेकण्ड फ्लोर के फ्लेट में करीब 5:30 शाम को ये अनहोनी घटित हो गई. गोली चलाने वाला 17 वर्षीय लड़का सरिता विहार के पास जसोला की एक स्कूल में 11वें क्लास का स्टूडेंट हैं. आरोपी के नाबालिग होने की वजह से उसका नाम नहीं बताया जा सकता हैं.

साउथ दिल्ली के DCP चिन्मय बिस्वाल के अनुसार 17 वर्षीय बालक के खिलाफ IPC की धारा 304 के तहत गैरइरादान हत्या का केस दर्ज किया गया हैं. फिलहाल आरोपी लड़का पुलिस की हिरासत में हैं. लड़के के पिता एक प्रॉपर्टी ब्रोकर हैं, जो अपने पास लाइसेंस पिस्तोल रखते हैं. पिस्तोल का लाइसेंस पिता के नाम होने की वजह से उनके खिलाफ भी आर्म एक्ट के तहत सेक्शन 30 चार्ज किया गया हैं.

उस दौरान कमरे के अन्दर क्या हुआ इस पूरी घटना पर उनके रिश्तेदार शिवम चौहान ने रौशनी डाली हैं. शिवम के अनुसार –

“प्रशांत और उसका नाबालिग कजिन एक कमरे के अन्दर थे. इस दौरान उसकी माँ कपड़ों पर स्त्री कर रही थी और बहन दुसरे कमरे में पढ़ाई कर रही थी. इसी बीच नाबालिग लड़के ने अलमारी के अन्दर से अपने पिता की बंदूक निकाली प्रशांत को मोबाइल से फोटो लेने के लिए कहा. लड़के ने हाथ में बंदूक थाम फोटो के लिए पोज दिया. इस दौरान बन्दूक का मुंह फोटो खीच रहे प्रशांत की तरफ था. जब प्रशांत फोटो ले रहा था तो लड़के के हाथ से गलती से बंदूक चल गई. बंदूक की गोली सीधा प्रशांत की छाती के दाएं हिस्से में जा लगी. प्रशांत वही जमीन पर गिर अचेत हो गया. उधर गोली की आवाज़ सुन घर के लोग कमरे की ओर भागे. आरोपी लड़के की माँ ने उसे पड़ोसियों की मदद लेने को कहा जिसके बाद प्रशांत को पड़ोसी की कार से अपोलो हॉस्पिटल ले जाया गया. लेकिन डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया.”

उधर DCP बिस्वाल का कहना हैं कि इस मामले में पिता की बन्दूक का लाइसेंस भी रद्द किया जाएगा. उन्होंने घर से बाहर होने के बावजूद गोलियों से लोड अपनी बंदूक को घर में छोड़ने की गलती की हैं. इस मामले में उनपर भी कारवाई होगी.

रिश्तेदारों का कहना हैं कि प्रशांत के भाई की मौत चार साल पहले ही हुई थी. प्रशांत हाल ही में टीचर की ट्रेनिंग पूरी कर शहदरा में गेस्ट टीचर के रूप में कार्यरत हुआ था. उनका यह भी कहना हैं कि गोली मारने वाला आरोपी लड़का एक होशियार स्टूडेंट हैं. उसने 10वीं की परीक्षा में 96% बनाए थे.

ये काफी दुःख की बात हैं कि सोशल मीडिया पर पॉपुलर होने के लिए लोग एक फोटो के लालच में कई बड़ा रिस्क ले लेते हैं. साथ ही बंदूक जैसे जानलेवा हथियार को बच्चों की पहुँच में रखना भी काफी लापरवाही वाला काम हैं.

You May Also Like

English News