बजट सत्रः सर्वदलीय बैठक के लिए पहुंचे PM, TMC करेगी बजट का बॉयकॉट

​संसद के बजट सत्र से पहले बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि बजट सत्र के दौरान संसद चलनी चाहिए। पीएम मोदी की इस बात पर विपक्ष ने हामी भरते हुए कहा कि वो भी चाहते हैं सदन चले। वहीं बैठक से पहले सर्वदलीय बैठक पर प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि बजट का यह सत्र सिर्फ 9 दिनों का है। सरकार को चाहिए अगले पूर्ण सत्र से पहले सर्वदलीय बैठक बुलाए।
बजट सत्रः सर्वदलीय बैठक के लिए पहुंचे PM, TMC करेगी बजट का बॉयकॉट

शहीद हंगपन दादा पर बनी फिल्म को तीन दिन में मिले आठ लाख हिट्स

हालांकि तृणमूल कांग्रेस इस बैठक में शामिल नहीं होगी। सर्वदलीय बैठक के समानांतर ममता बनर्जी ने दोपहर 12 बजे कोलकाता में अपने सांसदों की बैठक बुलाई है। एनडीटीवी पर लिखे एक लेख में टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने कहा कि उनकी पार्टी एक फरवरी को आम बजट का बॉयकॉट करेगी।  

दूसरी ओर कांग्रेस पार्टी की ओर से पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और पी. चिदंबरम कांग्रेस हेडक्वार्टर में शाम 4.15 बजे साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में खासतौर पर अपनी बात रखेंगे। माना जा रहा है कि दोनों नेता नोटबंदी और बजट के मुद्दे पर केंद्र सरकार को घेर सकते हैं। 

विपक्ष कर रहा है 1 फरवरी को बजट का विरोध

विधानसभा चुनाव से पहले बजट लाने का टीएमसी और कांग्रेस सहित प्रमुख विपक्षी दल विरोध कर रहे हैं। 16 विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग से भी सरकार की शिकायत की थी। इन दलों ने मांग की थी कि बजट 8 मार्च को मतदान खत्म होने के बाद पेश होना चाहिए। विपक्ष का आरोप है कि सरकार लोकलुभावने वादों के जरिए वोटरों को प्रभावित कर सकती है। ये मामला अदालत भी गया, लेकिन विपक्ष की मांग खारिज हो गई।
PM मोदी उठा सकते हैं फंडिंग का मुद्दा
संसदीय कार्यमंत्री अनंत कुमार ने सभी दलों को विचार विमर्श के लिए बुलाया है। आजतक की खबर के मुताबिक सरकार विपक्ष के साथ मतभेद के मुद्दों पर बीच का रास्ता निकालने की कोशिश करेगी, ताकि बजट सत्र शांति से चल सके। सरकार की ओर से बुलाई गई बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राजनीति दलों के चुनावी फंडिंग में पारदर्शिता का मुद्दा उठा सकते हैं।इस बार 1 फरवरी को बजट 

वित्तमंत्री अरुण जेटली मोदी सरकार का तीसरा बजट 1 फरवरी को पेश करेंगे। 31 तारीख से शुरु हो रहे बजट सत्र के पहले दिन राष्ट्रपति का अभिभाषण होगा और आर्थिक सर्वेक्षण पेश किया जाएगा। इस बार रेल बजट अलग से पेश नहीं किया जाएगा बल्कि यह आम बजट  का हिस्सा होगा। बजट सत्र दो हिस्सों में चलेगा – पहला 31 जनवरी से 9 फरवरी तक और दूसरा सत्र 9 मार्च से 12 अप्रैल तक चलेगा। पांच राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनावों की वजह से बजट सत्र को दो हिस्सों में बांटा गया है। 
 
 

You May Also Like

English News