बदमाशों के हौसले इतने हुए बुलंद की थाने के पास ही डाल दी करोड़ों की डकैती !

लखनऊ: राजधानी की सबसे व्यस्त कही जाने वाली चौक की सर्राफा मार्केट में सिथत मुकुंद ज्वैलर्स की दुकान रविवार की देर रात 7 से 8 असलहाधारी नकाबोश बदमाशों ने घुसकर करोड़ रुपये की डकैती डाली। इस दौरान जब दुकान मालिक और उसके बेटे ने विरोध किया तो बदमाशों ने दुकान मालिक के सिर पर असलहे की बट से वार करने के साथ ही दुकान मालिक के बेटे को गोली मार दी। गोली दुकान मालिक के पैर में लगी है। दोनों पिता.पुत्र को इलाज के लिए ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया है।

डीआईजी रेंज प्रवीण कुमार ने बताया कि चौक के गोल दरवाजे में स्थित सर्राफा मार्केट में पीर बुखारा निवासी प्रवीण रस्तोगी की मुकुंद ज्वैलर्स के नाम से सोने व चांदी की दुकान हैं। दुकान पर प्रवीण के साथ उनका बेटा जीतांशू बैठते हैं। साथ ही पांच कर्मचारी दिलीप, सिद्घू ए शंकर, आशीष और सीताराम काम करते हैं। बताया जाता है कि शुक्रवार की रात साढ़े आठ से 9 बजे के बीच दुकान बंद होने का समय हो चुका था। मालिक व कर्मचारी दुकान बंद करने की तैयारी कर रहे थे। इसी बीच सात से आठ नकाबपोश असलहाधारी बदमाश दुकान के अंदर घुस गये। बदमाशों ने दुकान में घुसते ही असलहे निकाल लिये और कर्मचारियों व मालिक और उनके बेटे को असलहे के बल पर बंधक बनाकर सीढिय़ों के पास बैठा दिया।

इसके बाद बदमाशोंं ने दुकान से सोने.चांदी के जेवरात और नकद रुपये बटोरे और वहां से भागने लगे। बदमाशों के भागते ही दुकान मालिक प्रवीण और बेटा जीतांशू ्रशोर मचाते हुए बदमाशों के पीछे दौड़े तो बदमाशों ने पहले प्रवीण के सिर पर असलहे की बट से वार कर दिया और फिर बदमाशों ने जीतांशू के पैर पर गोली मार दी। इस हमले में दोनों पिता.पुत्र घायल हो गये। इस बीच बदमाश संकरी गलियों का फायदा उठाते हुए पैदल ही भाग निकले। सर्राफ मार्केट में हुई इस घटना के बाद वहां अफरा.तफरी मच गयी।

आनन.फानन में प्रवीण और उनके बेटे को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। चर्चा है कि बदमाश दुकान से करीब 40 किलो सोना और डेढ़ करोड़ रुपये लूट ले गये हैं। वहीं पुलिस का कहना है कि अभी पीडि़त ने माल की कोई सूची नहीं दी हैए इसलिए यह कह पाना मुश्किल है कि लुटेरे कितने का माल ले गये हैं। डीआईजी रेंज ने बताया कि बदमाशों के बारे में कुछ अहम सुराग मिले हैं। पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम बदमाशों की तलाश में लगा दी गयी हैं।

गलियों मेें पड़े मिले कुछ जेवरात
भागते वक्त बदमाश इतनी हड़बड़ी में थे कि वह अपने पास मौजूद जेवरात को ढंग से नहीं संभाल सके। बदमाशों के जाने के बाद जब लोगों ने उस गली की तरफ गये जिधर से बदमाश भागे थेए कुछ लूटे गये जेवरात गली में पड़े मिले। लोगों ने जेवरात को जमा कर पुलिस को दे दिया है।

व्यापारियों में काफी आक्रोशए बाजार बंद करने की कही बात
सर्राफा मार्केट में फिल्मी ढंग से हुई लूट की इस घटना के बाद स्थानीय व्यपारियों में काफी आक्रोश है। मौके पर पहुंचे डीआईजी रेंज से भी व्यापारियों ने इस बात की शिकायत की कि चौक पुलिस इलाके में गश्त नहीं करती है। डीआईजी ने व्यापारियों को सुरक्षा को चौक चौबंद करने का आश्वासन दिया है। वहीं नाराज कारोबारियों ने मंगलवार को इस घटना के विरोध मेें बाजार बंद करने का ऐलान किया है।

शायद रेकी कर पूरी वारदात को अंजाम दिया गया है
सर्राफ प्रवीण की दुकान में हुई लाखों की इस डकैती की वारदात को अंजाम देने से पहले शायद बदमाशों ने पूरी रेकी की थी। बदमाशों ने आने और जाने का रास्ता पहले से तय कर रखा था। बदमाशों ने वारदात को अंजाम देने के लिए किसी वाहन का प्रयोग नहीं किया था। बदमाशों को इस बात पता पहले से थे कि सर्राफा मार्केट में गाड़ी से भाग पाना मुश्किल होगा और इसीलिए वह लोग पैदल ही वारदात को अंजाम देकर फरार हो गये।
पहले भी सर्राफ बन चुके हैं निशाना
1 अलीगंज में जनवरी को तिरुपति ज्वैलर्स को यहां लूट।
30 नवंबर कृष्णानगर में सर्राफ निर्मल मिश्रा को गोली मारकर लूटा बैग।
13 अक्टूबर इंदिरानगर में ओम ज्वैलर्स में फायरिंग कर लूटे गहने।
29 सितंबर अलीगंज में हरीश निशाद से तमंचे के बल पर लूट।
17 अगस्त पीजीआई में ज्वैलरी शाप में फायरिंग कर गहने लूटे।
12 जून गाजीपुर नीलम ज्वैलर्स में डाका लाखों के जेवर लूटे।
26 फरवरी विभूतिखंड में सोनार विपिन सोनी से असलहे के बल पर नकदी लूटी।

You May Also Like

English News