बदल गया पूर्व मुख्यमंत्रियों के बंगलों का माहौल, अब हर तरफ वीरानियां

हर समय गुलजार रहने वाले पूर्व मुख्यमंत्रियों के बंगलों पर अब वीरानी छा गई है। सुरक्षा घेरा हटते ही यहां सन्नाटा पसर गया है। कल्याण सिंह के 2, माल एवेन्यू के मुख्य द्वार पर ताला लटका है। राजनाथ सिंह के आवास पर सन्नाटा है जबकि अखिलेश यादव के आवास से अब भी सामान शिफ्ट हो रहा है। मुलायम सिंह का आवास खाली है और मायावती के आवास 13 ए, माल एवेन्यू पर राज्य संपत्ति विभाग ने चार चौकीदार तैनात किए हैं।

दोपहर- 12.30 बजे, 13-ए, माल एवेन्यू में हुई वीडियोग्राफी व फोटोग्राफी
13-ए, माल एवेन्यू के जिस बंगले में परिंदों को भी पर फैलाने की इजाजत नहीं थी, वहां से मायावती का नाता टूटते ही बंगला खास से आम हो गया। बंगले की भव्यता भले ही महल जैसी हो, लेकिन वहां का माहौल पूरी तरह बदल गया है। दोपहर में राज्य संपत्ति विभाग की टीम बंगले में बेरोक टोक दाखिल हुई। वर्षों से मायावती के साथ काम कर रहे स्टाफ के कुछ सदस्य बंगला खाली होने का दुखी दिखे। विभाग की टीम ने कमरों, हॉल, अतिथि गृह सहित कुर्सियों, टेबल से लेकर सोफा, बेड एलईडी, फ्रिज को रिकॉर्ड में दर्ज किया। पूरे बंगले की वीडियोग्राफी और फोटोग्राफी कराई गई। बसपा संस्थापक कांशीराम से जुड़ी वस्तुओं और स्थानों की अलग से रिपोर्ट तैयार की।

दोपहर- 2 बजे, अखिलेश के बंगले में बचा है छिटपुट सामान
पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के 4, विक्रमादित्य मार्ग स्थित आवास अब रौनक पूरी तरह गायब है। निजी स्टाफ के कुछ लोग अभी बंगले पर हैं लेकिन सुरक्षा के लिए बने कक्ष खाली हैं। दोपहर में बंगले के भीतर एक मेटाडोर गई। पूछने पर पता चला कि इसमें कुछ सामान लदकर जाना है। पहली मंजिल पर दो-तीन लोग सामान की पैकिंग कर रहे थे। सामान कहां जाएगा यह कोई बताने को तैयार नहीं। स्टाफ के लोग बंगले के भीतर निरीक्षण से रोकते हैं। कहते हैं- बंगला खाली हो चुका है लेकिन छिटपुट सामान बचा है। अखिलेश ने राज्य संपत्ति विभाग को अभी बंगले की चाबी नहीं सौंपी है।

दोपहर 2.15 बजे, मुलायम का बंगला खाली, कब्जा भी दिया
मुलायम सिंह यादव के 5, विक्रमादित्य मार्ग बंगले का मुख्य गेट और अस्थायी गेट बंद था। मुख्य द्वार के पास छोटा गेट खुला था, सिक्योरिटी पूरी तरह हट चुकी थी। भीतर मुलायम सिंह के स्टाफ के कुछ लोग मौजूद थे, लेकिन चहल-पहल नदारद थी। मुलायम सिंह का सारा सामान शिफ्ट हो चुका है। उनका स्टाफ राज्य संपत्ति विभाग को चाबी सौंपकर कब्जा दे चुका है। राज्य संपत्ति विभाग के सिविल व इलेक्ट्रिकल विभाग के कर्मचारी सामान की लिस्ट (इन्वेंटरी) बनाने के लिए पहुंचे। उन्होंने बंगले का निरीक्षण किया।

दोपहर-2.30, राजनाथ के आवास में पसरा सन्नाटा
केंद्रीय गृहमंत्री और पूर्व मुख्यमंत्री राजनाथ सिंह 4, कालिदास मार्ग आवास खाली कर चुके हैं। दोपहर में इस बंगले का मुख्य द्वार बंद और साइड का गेट खुला था। भीतर प्रवेश करते ही सुरक्षा कक्ष में कोई कर्मचारी नहीं था। हालांकि बाहर की तरफ कुछ सुरक्षाकर्मी बैठे मिले।

शाम- 6 बजे, एनडी तिवारी का बंगला केयर टेकर के हवाले, कल्याण के आवास पर ताला
शाम 6 बजे एनडी तिवारी के 1, माल एवेन्यू बंगले का मुख्य गेट खटखटाने पर थोड़ी देर बाद एक केयर टेकर आया। उसने बताया कि एनडी के परिवार का कोई सदस्य मौजूद नहीं है। 8 सितंबर से एनडी तिवारी बीमार हैं। तभी से बंगले में रौनक नहीं है। तिवारी के बराबर में 2, माल एवेन्यू स्थित कल्याण सिंह का आवास था। 31 मई को इसे खाली करके राज्य संपत्ति विभाग को कब्जा दिया जा चुका है। शाम को इस बंगले के मुख्य गेट पर ताला लटका था।

मायावती के लिए तैयार किया जा रहा 9 ए, माल एवेन्यू:
बसपा सुप्रीमो मायावती रविवार रात दिल्ली चली गई थीं। उनका निजी आवास 9 ए, माल एवेन्यू भी अब खास तौर पर तैयार किया जा रहा है। बंगले में सुरक्षा गार्ड रूम तैयार नहीं होने के कारण कमांडो और यूपी पुलिस के जवान बाहर कुर्सियां लगाकर बैठे थे। बंगले के चारों ओर सुरक्षा के लिए सशस्त्र जवान आस-पास की गलियों में तैनात थे। बंगले के बाहर और अंदर निर्माण कार्य जोर शोर से चल रहा है।

खाली बंगलों के लिए नहीं मिला कोई आवेदन : शुक्ला
राज्य संपत्ति अधिकारी योगेश कुमार शुक्ला ने बताया कि अभी तक कल्याण सिंह, राजनाथ सिंह, मायावती और मुलायम सिंह यादव ने कब्जा दे दिया है। अखिलेश यादव का बंगला 4, विक्रमादित्य आवास लगभग खाली है लेकिन इसका अधिकृत तौर पर कब्जा नहीं मिला है। मायावती के आवास में चार चौकीदार लगाए गए हैं। इस बंगले में मूर्तियों की सुरक्षा के लिए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, लखनऊ को पत्र लिखा गया है। खाली हुए बंगलों में व्यवस्था अधिकारी तथा सिविल व इलेक्ट्रिकल विभाग के जूनियर इंजीनियर सामान की इन्वेंटरी तैयार कर रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी का बंगला खाली नहीं हुआ है। इस मामले में न्याय विभाग की राय ली जा रही है। उन्होंने बताया कि खाली हुए बंगलों के आवंटन को लेकर अभी कोई चर्चा नहीं हुई है। अभी तक किसी मंत्री या अन्य किसी ने बंगलों के आवंटन के लिए आवेदन भी नहीं किया है।

You May Also Like

English News