बबीता बोलीं- दंगल ने बदल डाली लाइफ, शादी पर कहा- करेंगी तो खुद पता चल जाएगा

अंतरराष्ट्रीय महिला कुश्ती में देश को कई पदक दिलाने वाली पहलवान बबीता फोगाट को इस बात का मलाल है कि वह एशियाई खेलों में पदक नहीं जीत पाईं। दैनिक जागरण के ‘फिट है तो हिट है’ कार्यक्रम में बतौर मुख्य मेहमान पहुंचीं बबीता ने कहा, ‘मेरे दोनों घुटनों में 2013 से दर्द है, लेकिन मैं फिर भी लड़ती रही और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदक भी जीते। अब इंजरी काफी बढ़ जाने के कारण एशियाई खेलों में भाग लेने से वंचित रह गई, जिसका बहुत मलाल है।’अंतरराष्ट्रीय महिला कुश्ती में देश को कई पदक दिलाने वाली पहलवान बबीता फोगाट को इस बात का मलाल है कि वह एशियाई खेलों में पदक नहीं जीत पाईं। दैनिक जागरण के 'फिट है तो हिट है' कार्यक्रम में बतौर मुख्य मेहमान पहुंचीं बबीता ने कहा, 'मेरे दोनों घुटनों में 2013 से दर्द है, लेकिन मैं फिर भी लड़ती रही और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदक भी जीते। अब इंजरी काफी बढ़ जाने के कारण एशियाई खेलों में भाग लेने से वंचित रह गई, जिसका बहुत मलाल है।'   बबीता कहती हैं कि चोट के कारण ही वह ओलंपिक कैंप में भाग नहीं ले पाईं। अब मेरी यह कमी मेरी छोटी बहनें रीतू और संगीता पूरी करेंगी। दोनों अभी छोटी हैैं, लेकिन वह बेहतरीन प्रदर्शन कर अपने इरादे जता चुकी हैं। 28 वर्षीय बबीता से जब शादी के बारे पूछा तो उन्होंने हंसते हुए कहा, 'बबीता जब शादी करेगी तो खुद ब खुद पता चल जाएगा। फिलहाल अभी शादी का कुछ सोचा नहीं है।'  बबीता ने माना कि दंगल फिल्म ने उनकी लाइफ स्टाइल ही बदल दी। जब फिल्म के प्रोड्यूसर प्रस्ताव लेकर आए थे तो हमने सोचा था कि कोई डॉक्यूमेंट्री फिल्म बनानी होगी। बाद में पता चला की आमिर खान फिल्म बना रहे हैं तो खुशी का ठिकाना न रहा। बाद में फिल्म हिट हो गई तो हम चंद दिनों में दुनियाभर में छा गए। हमारे परिवार की अहमियत बढ़ गई। अब तो मॉल में शॉपिंग करने जाते हैं तो कर नहीं पाते। लोगों को पता चलते ही घेर लेते हैं, लेकिन जीवन में यह सब अच्छा लगता है।  –– ADVERTISEMENT ––     VIDEO: बबीता बोलीं- दंगल ने बदल डाली लाइफ, शादी पर कहा- करेंगी तो खुद पता चल जाएगा यह भी पढ़ें जीवन की सबसे बड़ी खुशी    लुधियाना में जस्टिस रणजीत सिंह जाच रिपोर्ट के खिलाफ शिअद का प्रदर्शन, जमकर की नारेबाजी यह भी पढ़ें बबीता कहती हैं कि अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट में पदक लेने के दौरान जब राष्ट्रीय गान बजता है तो खुशी से रोम-रोम झूम उठता है। 2014 में ग्लैक्सो में आयोजित राष्ट्रकुल खेलों के दौरान मुझे इंजरी थी। डॉक्टरों ने दंगल में उतरने से मना किया था। घर वाले भी परेशान थे, लेकिन मैंने लडऩे की ठान ली। विपरीत परिस्थितियों में गोल्ड मेडल पाने के बाद खुशी से मेरे आंसू निकल आए।

बबीता कहती हैं कि चोट के कारण ही वह ओलंपिक कैंप में भाग नहीं ले पाईं। अब मेरी यह कमी मेरी छोटी बहनें रीतू और संगीता पूरी करेंगी। दोनों अभी छोटी हैैं, लेकिन वह बेहतरीन प्रदर्शन कर अपने इरादे जता चुकी हैं। 28 वर्षीय बबीता से जब शादी के बारे पूछा तो उन्होंने हंसते हुए कहा, ‘बबीता जब शादी करेगी तो खुद ब खुद पता चल जाएगा। फिलहाल अभी शादी का कुछ सोचा नहीं है।’

बबीता ने माना कि दंगल फिल्म ने उनकी लाइफ स्टाइल ही बदल दी। जब फिल्म के प्रोड्यूसर प्रस्ताव लेकर आए थे तो हमने सोचा था कि कोई डॉक्यूमेंट्री फिल्म बनानी होगी। बाद में पता चला की आमिर खान फिल्म बना रहे हैं तो खुशी का ठिकाना न रहा। बाद में फिल्म हिट हो गई तो हम चंद दिनों में दुनियाभर में छा गए। हमारे परिवार की अहमियत बढ़ गई। अब तो मॉल में शॉपिंग करने जाते हैं तो कर नहीं पाते। लोगों को पता चलते ही घेर लेते हैं, लेकिन जीवन में यह सब अच्छा लगता है

जीवन की सबसे बड़ी खुशी

बबीता कहती हैं कि अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट में पदक लेने के दौरान जब राष्ट्रीय गान बजता है तो खुशी से रोम-रोम झूम उठता है। 2014 में ग्लैक्सो में आयोजित राष्ट्रकुल खेलों के दौरान मुझे इंजरी थी। डॉक्टरों ने दंगल में उतरने से मना किया था। घर वाले भी परेशान थे, लेकिन मैंने लडऩे की ठान ली। विपरीत परिस्थितियों में गोल्ड मेडल पाने के बाद खुशी से मेरे आंसू निकल आए।

You May Also Like

English News