बर्थ डे स्पेशल: लिली-थॉमसन की याद दिलाने वाले ब्रेट ली से बल्लेबाजों को लगता था डर

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व स्पीडस्टार ब्रेट ली का आज जन्मदिन है। ली की तेज गेंदबाजी का सामना करने से बड़े से बड़े बल्लेबाज हिचकिचाते थे। ली का खौफ ऐसा था कि बल्लेबाज उनके सामने स्ट्राइक में आने से बचते थे। बाउंसर और तेजी के लिए ली प्रमुख रूप से जाने जाते थे।  बर्थ डे स्पेशल: लिली-थॉमसन की याद दिलाने वाले ब्रेट ली से बल्लेबाजों को लगता था डर

विराट कोहली ने कहा- जब पांड्या चोटिल हुए तब उनके दिमाग में क्या चल रहा था

ब्रेट ली का जन्म 8 नवंबर को 1976 में ऑस्ट्रेलिया के न्यू साउथ वेल्स में हुआ ‌था। दुनिया में डेनिस लिली, जैफ थॉमसन, इमरान खान, मैल्कम मार्शल, शोएब अख्तर की तरह तेज गेंदबाजी से ब्रेट ली ने भी बल्लेबाजों को खासा परेशान किया ‌था। वह इन खौफनाक गेंदबाजों की श्रेणी के एक उम्दा स्पीड स्टार रहे। सचिन तेंदुलकर भी उनकी गेंदों को संभल कर खेलते थे। जब कभी उनको बाउंड्री पड़ती तो वह तुरंत बाउंसर फेंककर अपनी तेजी का परिचय देते ‌थ।  

2003 के विश्व कप में सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलिया की टीम महज 228 रनों पर श्रीलंका के खिलाफ सिमट गई थी। ऐसा लगा कि कंगारू इस अहम मुकाबले को हारकर टूर्नामेंट से बाहर हो जाएंगे। लेकिन ब्रेट ली ने पलक झपकते ही श्रीलंका के तीन अहम विकेट लेकर उनकी बल्लेबाजी की कमर तोड़ कर रख दी थी। मार्वन अटापट्टू को जिस तरह से उन्होंने बोल्ड किया था वह आज भी क्रिकेट प्रेमियों को याद है।  

 हरी पिच पर उनकी गेंदों में तेजी के साथ वेरायटी बल्लेबाजों को फंटफुट पर आने नहीं देती ‌थी। बल्लेबाज सही ढंग से स्टांस ही नहीं ले पाता था कि उनकी गेंद बल्ले का ‌किनारा लेकर स्लिप में खड़े खिलाड़ी के हाथ में चली जाती थी।

 ब्रेट ली ने अपने टेस्ट करियर में 76 मैचों में 310 विकेट हासिल किए। वहीं 221 वन डे में 380 विकेट लिए हैं। ब्रेट ली के नाम 25 टी-20 में 28 विकेट हैं। ब्रेट ली ने 2015 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से पूरी तरह संन्यास ले लिया था। 

You May Also Like

English News