बाराबंकी में चेकिंग के दौरान मिली नोटों से लदी वैन, 4 करोड़ बरामद

(बाराबंकी।) चुनाव आचार संहिता लागू होने के बाद शनिवार को जिले भर में उड़ाका दल की जांच में एक निजी कार व तीन कैश वैन से चार करोड़ पांच लाख रुपये की नकदी पकड़ी गई। यह बरामदगी हैदरगढ़ क्षेत्र के लोनीकटरा व रामनगर थाना क्षेत्र के चौकाघाट दो हजार व पांच सौ के नए नोटों के रूप में हुई। आयकर की जांच में 3 करोड़ 40 लाख रुपए बैंकों के पाए गए, लेकिन 65 लाख रुपए की जांच जारी है। अभी पूरी रकम ट्रेजरी में रखवाई जाएगी।
बाराबंकी में चेकिंग के दौरान मिली नोटों से लदी वैन, 4 करोड़ बरामद

 लापता युवक की हत्या के बाद बवाल लोगों ने थाने व वाहनों में लगायी आग

शनिवार को सबसे पहले लोनीकटरा थाना क्षेत्र के त्रिवेदीगंज कस्बे में उड़नदस्ते को एसआईएस कंपनी की कैश वैन नंबर यूके 07-जीए-4015 में 65 लाख रुपये की नकदी मिली। कैश वैन में मौजूद मुस्तकीम, गार्ड प्रदीप व विजय ने पुलिस को बताया कि यह रकम बैंक ऑफ बड़ौदा विभूति खंड लखनऊ शाखा से हैदरगढ़ समेत अन्य बैंक शाखाओं में देने ले जा रहे हैं पर इसका कोई कागज नहीं दिखा सके। इस पर पुलिस ने मौके पर हैदरगढ़ बैंक ऑफ बड़ौदा शाखा के प्रबंधक पीएन श्रीवास्तव को बुलाकर जानकारी मांगी पर वह भी कुछ स्पष्ट नहीं बता सके। वहीं रामनगर थाना क्षेत्र के चौकाघाट के पास सीएमएस कंपनी की कैश वैन नंबर यूपी 30-5359 में एक करोड़ की नकदी मिली।

 अख‌िलेश से म‌िलकर 20 म‌िनट में न‌िकले श‌िवपाल

वैन चालक राकेश यादव, शाकिर व गार्ड केशव सिंह ने बताया कि यह नकदी लखनऊ से बहराइच ले जा रहे थे, लेकिन वे भी कोई कागजात नहीं दिखा सके। यहीं पर चेकमैट कंपनी की कैशवैन यूपी 30- टी-9428 में भी एक करोड़ 70 लाख रुपये की नकदी बरामद हुई। वैन के चालक आशीष दुबे, राममूर्ति तिवारी, श्याम किशोर गार्ड व अजय पाल और लल्लू प्रसाद को भी पुलिस ने हिरासत मेें लिया है। इन लोगों ने पुलिस को बताया कि यह नकदी बहराइच के एटीएम में डालने ले जा रहे थे।

 इसके अलावा निजी कार नंबर यूपी 51-8931 में तलाशी के दौरान 70 लाख की नकदी मिली। कार सवार संतोष कुमार सिंह व सत्येंद्र कुमार सिंह ने खुद को विजया बैंक का कर्मचारी बताया और नकदी बहराइच विजया बैंक ले जाने की बात कही, लेकिन यह लोग भी कोई साक्ष्य नहीं दे सकेे। इन सभी मामलों की डीएम अजय यादव, एसपी सत्येंद्र कुमार सिंह ने कागज न मिलने पर पैसों को सीज कर आयकर विभाग की टीम बुलाकर जांच शुरू करा दी। जांच के दौरान तीन करोड़ चालीस लाख रुपए के बैंकों के कागजात सही पाए गए। शेष 65 लाख रुपए के कागजात तलब किए गए हैं।

 

You May Also Like

English News