बिग बॉस के स्वामी ओम का नया लुक, देखकर चौंक जाएंगे आप…

रियलिटी शो बिग बॉस सीजन 10 में सबसे ज्यादा सुर्खियां बटोरने वाले कंटेस्टेंट स्वामी ओम पानीपत में लूट का केस दर्ज कराने के बाद एक बार फिर चर्चा में हैं।

बिग बॉस के स्वामी ओम का नया लुक, देखकर चौंक जाएंगे आप...

लूट के संबंध में उन्होंने यू-ट्यूब पर एक वीडियाे अपलोड करके दाऊद इब्राहिम और सलमान को लपेटे में लेने की कोशिश की थी, वहीं बाबा का अब नया रूप सामने आया है। लंबे-लंबे केश और दाढ़ी-मूछ रखने वाले स्वामी ओम की एकदम क्लीनशेव तस्वीरें सामने आ रही हैं। हालांकि बाबा ने इस बात का खंडन किया है। 
प्राप्त जानकारी के अनुसार स्वामी ओम पिछले महीने की 26 तारीख को पानीपत आए थे। अंकुश जैन के अनुसार चिंटू, कैंडी और बाबा ओम उसे फंसाने की कोशिश कर रहे हैं। उसका कहना है कि वह 26 रात को साढ़े 10 बजे पर एंजेल प्राइम मॉल में खाना खा रहा था। उसके दोस्त के फोन पर चिंटू का फोन आया। उसने कहा बिग बॉस वाला बाबा पानीपत सेक्टर 6 में कैंडी के घर आया हुआ है। हम सभी दोस्त वहां उससे मिलने के लिए गए।
हमने दरवाजा खटखटाया, चिंटू उर्फ प्रिंस सिंगला ने गेट खुलवाया उसके बाद अंकुश जैन अंदर गया और अंदर जाकर फोटो खींचने लगा और वीडियो बनाई और हम वहा से वापिस आ गए। 
उसके बाद कैंडी उर्फ जग्गा की मां 28 तारीख को पानीपत आती है और बाबा से चौकी में लिखित में शिकायत दिलवाती है कि बाबा से 30 हजार रुपए पिस्तौल के बल पर लूटे गए हैं।
सभी लड़के पुलिस के बुलाने पर पुलिस के पास जाते हैं और वहां जाकर अंकुश जैन, पार्थ ग्रोवर, अक्षय गाबा, रफुल वाधवा और कर्ण पृथी और दो अन्य निपुण और बाबु इन सभी पर मुकदमा दर्ज करवाया जाता है।
हालांकि मीडिया में नए गैटअप की खबरें आने के बाद स्वामी ओम ने इस बात का खंडन किया है। उन्होंने कहा है कि वह अभी उसी पुराने दाढ़ी-मूछ और लंबे केश वाले लुक में हैं।
इसके अलावा लूट मामले में बात को गोलमोल करते वह कहने लगे कि इस मामले में वह प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति तक मुलाकात करके ज्ञापन दे चुके हैं। अपनी मांग बता चुके हैं।
सूत्रों के मुताबिक 27 की रात को चिंटू का विनय नागपाल के पास फोन आता है और वो नागपाल को कहता है कि इन सभी दोस्तों को फंसाने में मेरा गेम प्लान है और उससे 4 लाख रुपए मांगे और उसके बाद 3 लाख में सौदा हो गया और कहा कि अगर तुम टाइम पर पैसे नहीं दे पाते तो एक एक लाख रुपए बढ़ते जाएंगे।
अंकुश जैन ने कहा कि शहर में बदनामी के डर से उन्होंने पैसे देने की बात स्वीकार कर ली और कैंडी और चिंटू के कहने पर शहर के बाहर अभिनंदन होटल में उनकी मीटिंग कैंडी, चिंटू, कैंडी की मां और बहन के साथ फिक्स हुई, जिसमें उनकी डिमांड बढ़ती गई। 
जब वह अपने वकील को साथ लेकर पहुंचे तो दूसरा पक्ष वहां नहीं पहुंचा और फोन करने पर कहा कि अब तो फैसला ओम स्वामी के आश्रम में होगा। वंही अंकुश जैन ने बताया की चिंटू और कैंडी ने उन्हें पैसे चंडीगढ़ के सीनियर अधिकारी के पास भी रखने को कहा था।  अंकुश जैन का कहना है कि उन्होंने पूरे प्रकरण की आॅडियो रिकॉर्डिंग पुलिस को दे दी है, जिसमें स्वामी ओम के नाम पर धमकी देकर पैसे मांगे गए हैं।

You May Also Like

English News