बिहार में दो पत्रकारों समेत पांच लोगों की हत्या

बिहार में कानून-व्यवस्था एक बार फिर सवालों के घेरे में है। एक ओर जहां मुख्यमंत्री शराबबंदी के बाद बिहार में अपराधों में कमी का दावा कर रहे हैं, वहीं बीते 24 घंटों के दौरान अपराधियों ने दो पत्रकारों समेत पांच लोगों की हत्या कर दी है।
 
बिहार में दो पत्रकारों समेत पांच लोगों की हत्या
सासाराम और दरभंगा में हुए पत्रकारों की हत्या के बाद पुलिस प्रशासन ने जहां सभी मामलों में दोषी को गिरफ्तार करने और एसटीएफ का गठन कर पत्रकार हत्याकांड की जांच करने की बात कही है, वहीं विपक्षी नेता एक बार फिर सरकार पर हमलावर हो गए हैं।

इधर, कई पत्रकार संगठनों ने घटना की निंदा की है। जानकारी के अनुसार शनिवार की सुबह सासाराम में अपराधियों ने हिंदी दैनिक के पत्रकार धर्मेंद्र सिंह को गोली मार कर की हत्या कर दी। श्री सिंह मुफस्सिल थाने के अमरा तालाब स्थित अपने घर के पास ही चाय की दुकान में चाय पी रहे थे, उसी समय बाइक पर सवार तीन हथियारबंद अपराधियों ने उन पर हमला कर दिया।

धर्मेंद्र ने कुछ देर हमलावरों के साथ हाथापाई और विरोध भी किया,  लेकिन अपराधियों ने उनके सीने में गोली मार दी और वो वही गिर पडे़। इसके बाद सभी हमलावर वहां से फरार हो गए। स्थानीय लोगों ने आनन- फानन में पहले उन्हें सासाराम के सदर अस्पताल लाए, लेकिन चिकित्सकों ने प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें बेहतर इलाज के लिए वाराणसी रेफर कर दिया।

वाराणसी जाते वक्त शिवसागर के निकट रास्ते में उनकी मृत्यु हो गई। पुलिस इस गंभीर मामले की छानबीन और अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है। घटना के बाद रोहतास जिला समेत राज्य के सभी पत्रकारों में भारी क्षोभ है। 

अब तो पत्रकारों को भी निशाना बनाया जा रहा है

मामला पत्थर व बालू माफिया से जुड़ा भी बताया जा रहा है, क्योंकि करवंदिया-गोपी बिगहा में अवैध खनन को लेकर समाचार संकलन भी वह काफी पहले से किया करते थे। भाजपा नेता सुशील मोदी और नेता प्रतिपक्ष प्रेम कुमार ने कहा है कि बिहार में कोई सुरक्षित नहीं है और अब तो पत्रकारों को भी निशाना बनाया जा रहा है। अपराधियों को सत्ता से संरक्षण मिला हुआ है। जदयू प्रवक्ता संजय आलोक ने कहा है कि उनकी सरकार न तो अपराध से कभी समझौता किया है और न आगे करेगी। दोषियों को जल्द गिरफ्तार कर सजा दी जाएगी।

इससे पूर्व शुक्रवार की शाम को दरभंगा जिले के 48 वर्षीय पत्रकार रामचंद्र यादव की गोली मारकर हत्या कर दी। श्री यादव कुशेश्वर स्थान थाना क्षेत्र के केवटगामा पंचायत के मुखिया व कांग्रेस प्रखंड समिति के अध्यक्ष भी थे। जानकारी के अनुसार, रामचंद्र यादव रात करीब नौ बजे अपने गांव केवटगामा पंचायत के पछियार रही जा रहे थे इसी दौरान गांव से पश्चिम कब्रगाह के पास अज्ञात लोगों ने उन्हें पीछे से गोली मार दी, जिससे उनकी मौत हो गई। शनिवार की सुबह से पंचायत के लोगों ने दरभंगा से कुशेश्वरस्थान जाने वाले मुख्य सड़क मार्ग को जाम कर दिया और पूरे बाजार को भी बंद करवा दिए।  

आक्रोशित लोगों ने थाने में तोड़फोड़ भी की। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है और अपराधियों के जल्द गिरफ्तारी की बात कह रही है। ऐसे ही दूसरी वारदात को भागलपुर के सुलतानगंज में अंजाम दिया। देर रात ही सविता टॉकीज के पास अपराधियों ने एक युवक की गोली मारकर हत्या कर दी।

हत्या की तीसरी वारदात औरंगाबाद जिले के सलैया थाना क्षेत्र के रुनिया गांव में हुई। रूनिया गांव में अपराधियों ने एक वृद्ध कृष्णा चंद्रवंशी की हत्या कर दी। हत्या की पांचवी वारदात को अपराधियों ने नालंदा जिले के चंडी थाना क्षेत्र के चैनपुरा क्षेत्र में अंजाम दिया। यहां अपराधियों ने एक युवक की गोली मारकर हत्या कर दी। पुलिस भी मामलों में जांच की बात कह रही है।

 

You May Also Like

English News