बिहार में लगाए जाएंगे 14़.5 करोड़ पौधे- मोदी

कृषि रोडमैप के तहत अगले पांच वर्षो में बिहार में 14़.5 करोड़ पौधे लगाए जाएंगे. इस बात की जानकारी प्रदेश के उपमुख्यमंत्री और पर्यावरण व वनमंत्री सुशील कुमार मोदी ने मंगलवार को दी. मोदी ने कहा कि इस साल जुलाई-अगस्त में सघन अभियान चलाकर पूरे प्रदेश में एक करोड़ पौधों का रोपण किया जाएगा. बता दें कि सुशील मोदी ये बातें कृषि वानिकी की प्रशिक्षण के लिए बिहार से दो जत्थों में पंतनगर और हल्द्वानी जाने वाले 55 किसानों को संबोधित करते हुए कहीं.बिहार: कृषि रोडमैप के तहत अगले पांच वर्षो में बिहार में 14़.5 करोड़ पौधे लगाए जाएंगे. इस बात की जानकारी प्रदेश के उपमुख्यमंत्री और पर्यावरण व वनमंत्री सुशील कुमार मोदी ने मंगलवार को दी. मोदी ने कहा कि इस साल जुलाई-अगस्त में सघन अभियान चलाकर पूरे प्रदेश में एक करोड़ पौधों का रोपण किया जाएगा. बता दें कि सुशील मोदी ये बातें कृषि वानिकी की प्रशिक्षण के लिए बिहार से दो जत्थों में पंतनगर और हल्द्वानी जाने वाले 55 किसानों को संबोधित करते हुए कहीं. जानकारी के मुताबिक सरकार ने कृषि वानिकी नीति बनाने के लिए विशेषज्ञों की एक समिति का गठन भी किया है. इस दौरान सुशिल मोदी ने कहा कि, 'कृषि वानिकी को बढ़ावा देकर न केवल हरित आवरण क्षेत्र को बढ़ावा दिया जाएगा, बल्कि किसानों की आमदनी को भी दोगुना किया जाएगा. आपको बता दें कि बिहार के विभिन्न जिलों से चयनित 55 किसानों में से 30 गोविंद बल्लभ पंत कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, पंतनगर और 25 किसान उत्तराखंड वानिकी प्रशिक्षण संस्थान, हल्द्वानी में तीन दिन (पांच से सात अप्रैल) का प्रशिक्षण प्राप्त करेंगे. इस दौरान बिहार के उपमुख्यमंत्री ने कहा कि भागलपुर में 'टिश्यू कल्चर लैब' की स्थापना की गई है. उन्होंने कहा कि अगले कुछ दिनों में सुपौल में भी बांस के पौधे तैयार किए जाने लगेंगे.

जानकारी के मुताबिक सरकार ने कृषि वानिकी नीति बनाने के लिए विशेषज्ञों की एक समिति का गठन भी किया है. इस दौरान सुशिल मोदी ने कहा कि, ‘कृषि वानिकी को बढ़ावा देकर न केवल हरित आवरण क्षेत्र को बढ़ावा दिया जाएगा, बल्कि किसानों की आमदनी को भी दोगुना किया जाएगा.

आपको बता दें कि बिहार के विभिन्न जिलों से चयनित 55 किसानों में से 30 गोविंद बल्लभ पंत कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, पंतनगर और 25 किसान उत्तराखंड वानिकी प्रशिक्षण संस्थान, हल्द्वानी में तीन दिन (पांच से सात अप्रैल) का प्रशिक्षण प्राप्त करेंगे. इस दौरान बिहार के उपमुख्यमंत्री ने कहा कि भागलपुर में ‘टिश्यू कल्चर लैब’ की स्थापना की गई है. उन्होंने कहा कि अगले कुछ दिनों में सुपौल में भी बांस के पौधे तैयार किए जाने लगेंगे.

You May Also Like

English News