UP: सीएम योगी के राज में बीजेपी ‘विपक्ष’ परिषद की 6 सीटों पर जमा सकता है कब्ज़ा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, डेप्युटी सीएम केशव प्रसाद मौर्य व डॉ. दिनेश शर्मा के साथ अब दो मंत्रियों के लिए विधान परिषद में जाने का रास्ता साफ हो गया है। सपा एमएलसी अशोक वाजपेयी और बीएसपी जॉइन कर चुके एमएलसी अंबिका चौधरी के बुधवार को इस्तीफा देने के बाद अब विधान परिषद में 7 सीटें खाली हो गई हैं। इनमें स्थानीय निकाय कोटे की एक सीट पहले से खाली थी। जबकि सीएम योगी आदित्यनाथ, डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य, डॉ.दिनेश शर्मा के साथ परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह और अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री मोहसिन रजा के लिए सिर्फ पांच सीटों की जरूरत थी। ये सभी अभी किसी सदन के सदस्य नहीं हैं। सूत्रों के मुताबिक, एक सप्ताह के भीतर ही इन खाली सीटों के लिए अधिसूचना जारी होना शुरू हो जाएगी। सभी सीटों के लिए कार्यकाल खत्म होने की तिथि के आधार पर अलग-अलग अधिसूचनाएं जारी होंगी।UP: सीएम योगीके राज में बीजेपी 'विपक्ष' परिषद की 6 सीटों पर जमा सकता है कब्ज़ा

पहले वाजपेयी फिर अंबिका का हुआ इस्तीफा

सपा को बुधवार को एक और करारा झटका लगा। सपा के एमएलसी अशोक वाजपेयी ने बुधवार सुबह ही अपने पद से इस्तीफा दे दिया। सपा के कोटे से एमएलसी बने और अब बीएसपी में जा चुके अंबिका चौधरी ने दोपहर बाद अपना इस्तीफा विधान परिषद के सभापति रमेश यादव को सौंपा। बीएसपी में जाने के बाद उनकी सदस्यता पर पहले से ही खतरा मंडरा रहा था। परिषद से इस्तीफा देने वालों में अशोक वाजपेयी सपा के चौथे एमएलसी हैं। इससे पहले सपा एमएलसी यशवंत सिंह, बुक्कल नवाब, सरोजनी अग्रवाल के अलावा बीएसपी के एमएलसी जयवीर सिंह भी इस्तीफा दे चुके हैं। अंबिका की सदस्यता सपा के कोटे से ही थी, ऐसे में उन्हें सपा एमएलसी ही माना जाएगा। सभापति ने दोनों का इस्तीफा मंजूर करते हुए नोटिफिकेशन जारी कर दिया गया है।

#डोकलाम विवाद: भारत और चीन के बीच युद्ध का काउंटडाउन अब शुरू, जेटली का अहम बयान…

सीएम योगी और डेप्युटी सीएम समेत मंत्रियों को 19 मार्च को शपथ लेने के छह महीने के भीतर यानी 19 सितंबर तक किसी सदन का सदस्य होना जरूरी है। अब पांचों न केवल आसानी से विधान परिषद जा सकेंगे बल्कि बीजेपी को एक सीट अतिरिक्त मिल गई है, जिस पर संगठन से किसी और को एमएलसी बनाया जा सकता है।

बीजेपी की संख्या हो सकती है 14

कुल 6 सीटों पर बीजेपी की जीत लगभग तय मानी जा रही है। कुछ समय पहले बनवारी सिंह के निधन से रिक्त हुई स्थानीय निकाय कोटे की सीट पर भी बीजेपी जीतती है तो उसे सात सीटें मिल जाएंगी। इन सीटों को जीतने के बाद बीजेपी के पास परिषद में 14 सीटें हो जाएंगी।

बीजेपी में होंगे शामिल

सूत्रों के मुताबिक अशोक वाजपेयी गुरुवार को ही बीजेपी में शामिल हो जाएंगे। डेप्युटी सीएम केशव प्रसाद मौर्य उन्हें बीजेपी में शामिल करवा सकते हैं, जबकि अंबिका अब भी दावा कर रहे हैं कि वह बीएसपी में मायावती के साथ ही बने रहेंगे। हालांकि बीजेपी के कुछ लोग अंबिका के संपर्क में भी हैं। चर्चा यह भी है कि सपा-बीएसपी के कुछ और एमएलसी 15 अगस्त के बाद इस्तीफा दे सकते हैं।

विधान परिषद में ताजा दलीय स्थिति

सपा-61
बीएसपी-9
बीजेपी-8
कांग्रेस-2
अन्य-13
रिक्त-7

You May Also Like

English News