बीसीसीआई पर नाराज रामचंद्र गुहा ने लिखी चिट्टी, लगाए ये बड़े आरोप

बीसीसीआई में चल रही खींचतान एक बार फिर सामने आ गई है। हाल ही में सुप्रीम कोर्ट द्वारा बीसीसीआई की प्रशासनिक समिति में नियुक्त किए गए इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने अपने पद से इस्तीफा देने के बाद बीसीसीआई को लिखी चिट्ठी में कई बड़े आरोप लगाए हैं।बीसीसीआई पर नाराज रामचंद्र गुहा ने लिखी चिट्टी, लगाए ये बड़े आरोप

अभी अभी: बाबा रामदेव के पतंजलि योगपीठ पर बड़े हमले होने की मिली धमकी..

हालांकि शुरूआत में गुहा ने इस्तीफा देने की वजह निजी बताई ‌थी लेकिन माना जा रहा था कि वह बोर्ड की अंदरूनी कार्यप्रणाली से नाराज चल रहे थे। यही आशंकाएं उस समय सच साबित हो गई जब गुहा ने बीसीसीआई को चिट्ठी लिखकर बोर्ड के काम करने के तौर तरीकों और कामकाज पर कई गंभीर सवाल खड़े कर दिए। बोर्ड को लिखी चिट्ठी में गुहा ने बोर्ड अधिकारियों, चयनकर्ताओं सहित पूर्व खिलाड़ियों पर हितों के टकराव का बड़ा आरोप लगाया है। 

राहुल द्रविड़ और धोनी पर उठाया गंभीर सवाल
गुहा ने सवाल उठाया कि कई खिलाड़ी राष्ट्रीय टीम की कीमत पर आईपीएल को तरजीह दे रहे हैं। उन्होंने पूर्व अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी और राष्ट्रीय ए टीम के कोच राहुल द्रविड़ पर आरोप लगाया कि वह राष्ट्रीय टीम का कोच होने के साथ साथ दिल्‍ली डेयरडेविल्स के भी कोच हैं जो हितों के सीधे टकराव का खुला मामला है।

इसके अलावा बीसीसीआई की मीटिंग में आज भी कई ऐसे अधिकारी शिरकत करते हैं जो पूर्व में हटाए जा चुके हैं। गुहा ने धोनी के कांट्रेक्ट पर भी सवाल उठाया है। जिसमें कहा गया है कि धोनी राष्ट्रीय टेस्ट टीम से संन्यास ले चुके हैं लेकिन आज भी उन्हें बोर्ड के ए ग्रेड कांट्रेक्ट में रखा गया है।

उन्होंने राष्ट्रीय टीम और घरेलू खिलाड़ियों को दी जाने वाली मैच फीस में बड़े अंतर पर भी सवाल उठाया है। गुहा ने मौजूदा कोच विवाद पर भी सवाल खड़ा करते हुए कहा है कि इसे और बेहतर तरीके से सुलझाया जा सकता था लेकिन बोर्ड अधिकारियों के इगो के कारण बिना वजह ये मुद्दा सवालों में घिर गया। गुहा ने साफ सवाल किया है कि बोर्ड में लगातार हितों के टकराव के मुद्दे की अनदेखी की जाती रही है, ऐसे में मौजूदा परिस्थितियों में भारतीय क्रिकेट का भला होना संभव नहीं है।

You May Also Like

English News