‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ के नाम पर लाखों की ठगी, पीएम मोदी तक पहुंचा योजना का नकली फॉर्म

केंद्र सरकार के अभियान ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ के नाम पर एक ठग गिरोह ने प्रदेश भर में हजारों फर्जी फार्म बेचकर लाखों की धोखाधड़ी की। शहर के भी सवा सौ लोगों को भी शिकार बनाया गया। मामला तब खुला जब ऐसे फार्म प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) पहुंचे। पीएमओ ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को इस पूरे मामले से अवगत कराते हुए कार्रवाई के लिए कहा है। डीजीपी की ओर से जारी आदेश पत्र के बाद शहर समेत कई जिलों में अज्ञात ठग गिरोह के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू की गई है।कोतवाली इंस्पेक्टर रविंद्र कुमार वशिष्ठ ने बताया कि छह महीने से एक गिरोह बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ अभियान के फर्जी फार्म छपवाकर लोगों को ठग रहा था। ये लोगों को केंद्र सरकार की तरफ से दो लाख रुपये देने का लालच देते थे और इसके एवज में हजारों रुपये कमीशन एडवांस लेते थे। इसके बाद फर्जी फार्म भर पीएमओ में भेजते थे। पूरे प्रदेश से कई फर्जी फार्म पीएमओ आफिस पहुंचे। इनमें 125 फार्म शहर से भी पहुंचे थे। इसी आधार पर कोतवाली में सिपाही मोतीलाल की तरफ से मुकदमा दर्ज कर कर पुलिस ठगों की तलाश कर रही है।

फर्जी फार्म की डिटेल के आधार पर मुख्यमंत्री कार्यालय से डीजीपी को आदेश दिया गया कि जल्द से जल्द कार्रवाई कर दोषियों की धरपकड़ की जाए। धोखाधड़ी के शिकार लोगों का पुलिस ने सत्यापन करना शुरू कर दिया है। पुलिस पीड़ितों के बयान दर्ज कर आरोपियों के खिलाफ सुबूत के तौर पर पेश करेगी। पीड़ितों से भी लिखित तहरीर लेकर मुकदमा दर्ज करेगी।

You May Also Like

English News