बेहतर नींद के लिए अपनाएं ये तरीका और खो जाएं ब्रह्मांड में

ऐसे व्यक्ति जो बिस्तर पर लेटने के 30 मिनट या इससे भी कम समय में सो जाते हैं और रात में एक बार से ज्यादा नहीं जागते, समझिए उन्हें अच्छी नींद आती है। ऐसे व्यक्ति की सेहत भी ठीक रहती है। यह शोधकर्ताओं का कहना है। अमेरिका के गैर-लाभकारी नेशनल स्लीफ फाउंडेशन (एनएसएफ) के अनुसार, बिस्तर पर ज्यादा समय तक नींद लेना (कुल समय का 85 फीसदी) और नींद आने से पहले 20 मिनट तक या उससे कम समय तक जागना अच्छी गुणवत्ता वाली नींद कहलाती है।

बेहतर नींद के लिए अपनाएं ये तरीका और खो जाएं ब्रह्मांड में

नोटबंदी के दौर में आपके घर का बिगड़ा बजट संभालेंगे ये टिप्स

शोधकर्ताओं ने नींद का राज जानने के लिए कुछ तकनीकी उपकरणों का इस्तेमाल किया। गैजेट्स को नींद के दौरान पहना गया या बिस्तर पर रखा गया। इसके बाद उस बिस्तर पर सोने वाले की हर रात की गहरी और हल्की नींद का विश्लेषण किया गया।

एनएसएफ के अध्यक्ष मैक्स हिरशकोविट्ज ने कहा, “लाखों अमेरिकी नींद के लिए तकनीकी उपकरण का इस्तेमाल कर रहे हैं। इन उपकरणों से व्यक्ति को नींद में ब्रह्मांड की झलक मिलती है। उसे काल्पनिक ब्रह्मांड में विचरना अच्छा लगता है। उस समय उसकी नींद बहुत गहरी होती है।”

अगर आप है खूबसूरत तो हो जाइए सावधान, इस बीमारी का आपको भुगतना होगा अंजाम

एनएसएफ द्वारा हाल की में जारी स्लीप हेल्थ इंडेक्स के अनुसार, 27 फीसद लोग नींद में जाने से पहले औसतन 30 मिनट से ज्यादा समय लेते हैं।

 अच्छी नींद न आने से निर्णय लेने की क्षमता प्रभावित होती है। अवसाद घेर लेता है, दिल की समस्याएं पैदा होती हैं और मोटापा परेशान करता है। यानी व्यक्ति के सामान्य स्वास्थ्य में गिरावट आ सकती है।

इस शोध की रिपोर्ट पत्रिका ‘स्लीप हेल्थ’ में का प्रकाशित हुई है।

 

You May Also Like

English News