बैंक लूट में तीसरा बदमाश भी चढ़ा हत्थे, आए थे कैश वैन लूटने पर यूपी 100 को देख बदला था इरादा

नौबस्ता की हंसपुरम चौकी के चंद कदम दूर बड़ौदा उत्तर प्रदेश ग्रामीण बैंक में बम फोड़कर दिनदहाड़े दुस्साहसिक लूट की घटना में तीसरे फरार बदमाश को गिरफ्तार कर पुलिस ने पर्दाफाश कर दिया है। घटना को अंजाम देने वाले बैंक नहीं कैश वैन लूटने आए थे। मास्टर माइंड सूरज उर्फ विल्सन के मुताबिक बर्रा, उरई, झांसी में बैंक लूट में ज्यादा रकम हाथ न लगने पर कैश वैन लूटने की फिराक में आए थे पर यूपी 100 की गाड़ी आ जाने से प्लानिंग पर पानी फिर गया और हर बार की तरह बैंक लूट कर फरार हो गए।

एसएसपी अखिलेश कुमार ने बताया कि बैंक में लूटपाट करने वाले 50 हजार के इनामी सफेद कालोनी दादानगर निवासी सूरज उर्फ विल्सन मैकलीन उर्फ बबलू डॉक्टर और उसके नौबस्ता आनंद विहार निवासी (मूल रूप से कुरारा, हमीरपुर ) साथी मुकेश को पुलिस ने दासू कुआं के पास से 72 घंटे के भीतर गिरफ्तार कर लिया। इनके पास से बैंक से लूटी गई 4.40 लाख की नकदी में से 2.23 लाख बरामद हुआ। इसमें मुकेश के पास से एक तमंचा, दस देसी बम, 93 हजार नकद, बाइक और विल्सन के पास से एक तमंचा, डायरी, लूट का 1.30 हजार नकद बरामद हुआ। इन्होंने बैंक में बम फोड़कर अन्य कई घटनाएं करने की बात कबूल की है, जिनकी तस्दीक की जा रही है। पकड़ने वाली टीम में नौबस्ता, बर्रा, रेलबाजार, कल्याणपुर, बाबूपुरवा, स्वाट टीम, आइजी की क्राइम ब्रांच व एडीजी की सर्विलांस टीम को 50 हजार का नकद पुरस्कार व प्रशस्ति पत्र दिया जाएगा

इन घटनाओं को दिया अंजाम

2014 : कानपुर के बर्रा में

2015 : सागर के मलथोन में

2016 : झांसी के सिपरी बजारा में

2017 : जालौन में उरई में

फरार राजकुमार भी गिरफ्तार

बैंक लूट में शामिल फरार अकबरपुर निवासी राजकुमार पर 25 हजार का इनाम घोषित किया था। मंगलवार को पुलिस टीम ने नौबस्ता के समाधि पुलिया के पास से राजकुमार को गिरफ्तार कर लिया। उसके पास से एक तमंचा बरामद किया था। पूछताछ में उसने बताया कि लूट के समय उसका काम बम फोड़कर दहशत फैलाने का था। साथ ही कैश काउंटर से नकदी निकालने का काम सौंपा गया था। एसपी साउथ रवीना त्यागी ने बताया कि फरार बदमाश राजकुमार को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा रहा है। दो माह की रेकी के बाद चुना था ग्रामीण बैंक

कानपुर : बैंक लूट की कई घटनाओं को अंजाम देने वाले विल्सन ने इस बार बड़ा हाथ मारने के इरादे से साथी मुकेश व राजकुमार के साथ कैश वैन लूटने के लिए रेकी की थी। दो माह की रेकी में इन्होंने बड़ौदा उत्तरप्रदेश ग्रामीण बैंक की बिनगवां शाखा को चुना क्योंकि यहां पर गार्ड से लेकर गेट में चेन तक नहीं पड़ती और हाईवे के चलते भागने के रास्ते खुले थे। लूट के मास्टर माइंड विल्सन मैकलीन ने बताया कि कैश वैन लूटने जा रहे थे कि यूपी 100 की एक गाड़ी उधर से गुजरी तो रुक गए। पास ही स्थित पुलिया पर जाकर शराब पी, जहां पर बैंक लूटने की बात तय हुई। मुकेश बैंक में घुसते ही बमबाजी करने लगा और राजकुमार ने कैश बैग में भर लिया। दोनों बाहर आते ही बाइक लेकर खड़े विल्सन के साथ भागे। लोगों के पीछा करने पर बमबाजी व फाय¨रग करते रहे। बता दें, घटना से कुछ मिनट पहले ही कैश वैन से 28 लाख रुपया आया था। बाइक छोड़ ई-रिक्शा से भागे

पुलिस के सक्रिय होने के चलते लुटेरों ने पकड़े जाने के डर से बाइक सड़क किनारे खड़ी कर दी और ई-रिक्शा से बैठकर भाग निकले। कुछ दूर हुआ रकम का बटवारा

बैंक लूट की रकम का बटवारा मुकेश के घर पर हुआ, जो बैंक से चंद कदम दूरी पर है। यहां से विल्सन बादशाही नाका में रहने वाले बहनोई के घर और मुकेश व राजकुमार अपने गांव निकल गए। पुलिस की सख्ती पर वह भी ठिकाना छोड़ दिया। कपड़ों का फिर किया टोटका

लुटेरे हर बार यही कपड़े पहनकर लूटपाट की घटना को अंजाम देते हैं। इस बार भी इन लोगों ने गोल्ड स्टार का जूता, नीली व सफेद शर्ट का इस्तेमाल किया।

चाल देखकर हुई पहचान

पुलिस घटना से जुड़े लोगों की पहचान के लिए सर्विलांस के साथ ग्राउंड लेवल पर भी काम कर रही थी। इसमें लूट के फुटेज को देखकर एक ने बताया कि उक्त युवक विल्सन है। क्योंकि दोनों चलते वक्त झटका लेते हैं और कद-काठी एक जैसी है। 27 सूचनाओं पर दी गई दबिश

बैंक लूट की घटना को लीड कर रहीं एसपी साउथ रवीना त्यागी ने बताया कि लूट की फुटेज वायरल होते ही शहर के साथ ही आपसास के जिलों से भी उनके मिलते-जुलते लोगों की सूचनाएं आने लगीं। 27 लोगों को चिह्नित कर ताबड़तोड़ दबिश दी गई। 27 से ज्यादा सीसीटीवी फुटेज व डाटा फिल्टरेशन में करीब सात लाख नंबर पर काम किया गया। तब कहीं जाकर मुखबिर तंत्र व सर्विलांस की मदद से विल्सन और फिर मुकेश हाथ लगा। रिमांड पर खुलेंगे कई राज

गिरफ्तार शातिर मुकेश व विल्सन की मानें तो वे हर साल बैंक में बम फोड़कर लूटपाट करते आए हैं। पुलिस एक में भी हमें पकड़ नही पाई और चिरपरिचित अंदाज में दूसरों को जेल भेज कर शांत बैठ गई। पुलिस सूत्रों ने भी इनके पिछली चार बैंक लूट में हाथ होने की बात कही है। इसकी पुष्टि के लिए इन्हें रिमांड में लेने को कहा है। एसएसपी अखिलेश कुमार ने बर्रा में हुई बैंक लूट में दोबारा जांच करने की बात कही। फोटो छपने पर बना दी मूंछ

सीसीटीवी पर फुटेज देख डरकर विल्सन बहनोई के घर चला गया। सुबह अखबार में फोटो छपने और इनाम घोषित होने पर मूंछ बना दी, जिससे लोग पहचान न सकें। क्या पता था कि अचानक आए बदलाव के चलते पकड़ा जाऊंगा।

प्रेमिका संग रह रहा था मुकेश

मुकेश हमीरपुर कुरारा स्थित पैतृक घर छोड़कर नौबस्ता में एक प्रेमिका के साथ रह रहा था। अपनी अय्याशी व खर्चो के चलते ही लूटपाट व जुआ खेलने लगा था। मुकेश रेडीमेड कपड़ों की फेरी लगाता था। मुख्यालय में मंगलवार व शनिवार को कपड़े बेचता था। जिसे करीब डेढ़ वर्ष पूर्व शुरू किया था। इससे पहले फट्टा लगाकर गेहूं खरीदने और बेचने का व्यापार करता था। मुकेश चार भाइयों में सबसे बड़ा है, इसका एक भाई नेवी में काम करता है।

पुलिस का रहा है मुखबिर

बैंक में लूट की घटना का मास्टरमाइंड विल्सन पुलिस का पुराना मुखबिर होने के नाते पुलिस की कार्यप्रणाली से भलीभांति वाकिफ था। वह गो¨वद नगर में ऑटो चलवाता था, कुछ समय पहले ही उसने एक ऑटो बेचा था। वह बर्रा, गोविंदनगर व शहर के कई स्थानों पर काफी समय से जुआ व संट्टा भी चलवाने लगा था। आज कल एक विधायक के साथ चलकर लोगों पर रौब गांठ रहा था।

 बहेलिया गैंग के दो शातिरों की तलाश में दबिश

कानपुर : नौबस्ता में केस्को कैशियर और गार्ड की आंख में मिर्च पाउडर डालकर 12.50 लाख रुपये लूटने वाले बहेलिया गैंग के दो शातिरों की तलाश में सोमवार को कानपुर देहात में दबिश दी गई लेकिन सफलता नहीं मिली।

बुधवार को केस्को कर्मियों से हुई लूट के मामले में पुलिस ने मुठभेड़ के दौरान सात लाख रुपये बरामद किए थे। शनिवार को शिवराजपुर में बहेलिया गैंग के शातिर साले बहनोई सूरज व नीरज के पकड़े जाने के बाद इस घटना का खुलासा हुआ। हालांकि बाकी रकम अब तक नहीं बरामद हुई। पुलिस उनके दो साथियों रामगुलाम व रानू की तलाश में जुटी है। इंस्पेक्टर संतोष कुमार सिंह ने बताया कि बहेलिया गैंग के बदमाशों के कानपुर देहात या फिरोजाबाद में होने की उम्मीद है। दो टीमें बनाई गई हैं, जल्द ही उन्हें पकड़ लिया जाएगा।

You May Also Like

English News