बैटिंग, बॉलिंग, फील्डिंग किए बिना पाकिस्तानी ने मैदान में सिर्फ खड़े रहते रचा इतिहास

क्रिकेट के मैदान में आए दिन रिकॉर्ड बनते और टूटते रहते हैं। कभी कोई बल्लेबाज रनों को लेकर रिकॉर्ड बनाता है, तो कई गेंदबाज विकेट झटकने का इतिहास लिखते हैं। यह भी अगर कम हो तो फील्डिंग में भी खिलाड़ी एक के बाद एक रिकॉर्ड बना रहे हैं।बैटिंग, बॉलिंग, फील्डिंग किए बिना पाकिस्तानी ने मैदान में सिर्फ खड़े रहते रचा इतिहास

 मगर पाकिस्तान के एक शख्स ने बैटिंग, बॉलिंग या फील्डिंग किए बिना ही क्रिकेट के मैदान में सिर्फ खड़े रहते हुए भी इतिहास लिख दिया। ये शख्स हैं पाकिस्तान के अपांयर अलीम डार, जिन्होंने अपने नाम एक अनोखी उपलब्धि लिखी है।

 दुनिया के सबसे मशहूर अंपयार अलीम डार ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा मैचों में अंपारिंग करने का रिकॉर्ड बनाया है। दक्षिण अफ्रीका और श्रीलंका के बीच खेले जा रहे केपटॉउन टेस्ट में अंपायररिंग कर रहे डार के लिए ये 332वां मैच है।

 डार से पहले यह रिकॉर्ड दक्षिण अफ्रीका के रूडी कर्टज़न के नाम था. कर्टज़न ने अपने पूरे करियर में 331 मैचों में अंपायरिंग की है। कर्टज़न ने 14 T20, 108 टेस्ट और 209 वनडे में अंपायरिंग की। आईसीसी इलीट पैनल के अंपायर रहे कर्टज़न ने 2010 में अंपायरिंग से संन्यास लिया।

बीसीसीआई के बर्खास्त होने के बाद अनुराग ठाकुर को लग सकता है एक और झटका

 डार ने सबसे पहले साल 2000 में अंपायरिंग शुरू की। 48 साल के डार ने 41 T20, 182 वनडे मैच और 109 टेस्ट में अंपायरिंग की है। टेस्ट में उनसे ज़्यादा मैचों में वेस्ट इंडीज़ के स्टीव बकनर (128 टेस्ट) में अंपायरिंग कर चुके हैं।

 आईसीसी के इलीट पैनल के अंपायर डार का अंपायरिंग करियर अब तक शानदार रहा है। लगातार तीन साल डार आईसीसी अंपायर ऑफ द ईयर का खिताब जीत चुके है। साल 2009, 2010 और 2011 में उन्होंने आईसीसी का बेस्ट अंपायर का खिताब भी अपने नाम किया।

 

You May Also Like

English News