बड़ा खुलासाः समय से पहले लड़कियों को जवान बनाकर जिस्मफरोशी करवाता था

जो लड़की जिस्‍मफरोशी के लिए मना करती थी उसके जबरन ड्रग्‍स दिया जाता था।नशे की आदी होने पर वह धीरे-धीरे इस धंधे में शामिल हो जाती थीं।नशे की आदी होने पर वह धीरे-धीरे इस धंधे में शामिल हो जाती थीं।
नई दिल्‍ली। दिल्ली के जीबी रोड में सेक्स रैकेट का सिंडिकेट चलाले वाले करोड़पति दलाल अफाक और उसकी पत्‍नी सायरा के खिलाफ पुलिस ने चार्जशीट दाखिल कर दी है। पुलिस ने अपने चार्जशीट में कई सनसनीखेज खुलासे किए हैं। पुलिस के अनुसार रेड लाइट एरिया जीबी रोड पर जिस्‍मफरोशी के लिए लाई गई नाबालिग लड़कियों को अफाक और उसकी पत्‍नी हार्मोन और नशे का इजेक्‍शन देकर जवान बनाने की कोशिश करते थे। हार्मोन का इंजेक्‍शन देने के बाद उन्‍हें जिस्‍मफरोशी के लिए उतार दिया जाता था।अंग्रेजी अखबार हिंदुस्‍तान टाइम्‍स की खबर के मुताबिक पुलिस ने अपनी चार्जशीट में बताया है कि जो लड़की जिस्‍मफरोशी के लिए मना करती थी उसके जबरन ड्रग्‍स दिया जाता था।

OMG: इस लड़की में है कुछ ऐसा कि लाखों नहीं… करोड़ों करते हैं एक ही डिमांड

नशे की आदी होने पर वह धीरे-धीरे इस धंधे में शामिल हो जाती थीं। लड़कियों को ड्रग्स और इंजेक्शन देकर जवान बनाने का यह काम अफाक की पत्नी शायरा बेगम की देखरेख में होता था। तीस हजारी अदालत में दायर की गई चार्जशीट में दिल्ली पुलिस ने बताया कि आरोपी दंपति दो दशक में तीन हजार से भी ज्यादा लड़कियों को देह व्यापार में धकेल चुका है।
3895 पन्नों की चार्जशीट और 125 गवाही

पुलिस ने 20 फरवरी को मकोका के तहत दर्ज इस मामले में 3895 पन्नों की चार्जशीट कोर्ट में दाखिल की थी। इस केस में पुलिस के पास 125 से अधिक गवाह हैं। इस मामले में कुल 13 आरोपी बनाए गए हैं, जिनमें से अफाक दंपति सहित अभी तक कुल दस आरोपी गिरफ्तार हो चुके हैं। वहीं तीन आरोपी अभी फरार चल रहे हैं। उन्हें भगोड़ा घोषित करने की प्रक्रिया जारी है। सूत्रों की मानें तो पुलिस के पास गवाह के तौर पर 12 पीड़ित लड़कियां हैं। हालांकि, सुरक्षा के लिहाज से पुलिस ने इनकी पहचान उजागर नहीं की है।

जीबी रोड से दुबई और पाकिस्‍तान तक अफाक का नेटवर्क
पांच हजार लड़कियों को सेक्स रैकेट के दलदल में उतारने वाले आफाक और सायरा बेगम का नेटवर्क सिर्फ दिल्ली के जीबी रोड तक ही सीमित नहीं था। बल्कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश से दुबई और पाकिस्तान तक फैला था। वह नेपाल, बांग्लादेश के अलावा आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल और बिहार से लाई गई लड़कियों को दुबई भेजता था और मोटी रकम वसूल करता था।
5 हजार लड़कियों को बेचा, 200 करोड़ से ज्‍यादा की संपत्ति
5 वर्षीय सायरा बेगम और 50 वर्षीय आफाक हुसैन पर आरोप है कि इन्होंने करीब 5 हजार लड़कियों की नेपाल, बंगाल, ओडिशा, कर्नाटक, असम, आंध्रप्रदेश और अन्य राज्यों से तस्करी की है। बताया जा रहा है कि इससे इससे उन्होंने 200 करोड़ रुपए से ज्यादा कमाए हैं। ये 50 हजार रुपए में लड़कियां खरीदते थे और उन्हें दो लाख रुपए में बेचते थे। एक बार लड़कियां जीबी रोड़ स्थित कोठे पर पहुंच जाए तो उन्हें ये अलमारी, गुफा में छुपाकर रखते थे। इसके बाद एक छोटे से कमरे में उनके क्लाइंट्स को जबरन एंटरटेन करना होता था।
क्‍या है हॉर्मोन का इंजेक्‍शन
समय से पहले जिस्‍म की मंडी में मासूमों को उतारने के लिये हॉर्मोंस का जो इंजेक्‍शन लगाया जाता है उसे “ऑक्‍सीटॉन” कहते हैं। आईए आपको ऑक्‍सीटॉन के बारे में बताते हैं। बाल रोग विशेषज्ञों की मानें तो बच्चियों को उम्र से पहले बड़ा बनाने के लिये ऑक्‍सीटॉन का प्रयोग बच्चियों की जिंदगी को जहन्‍नुम बना देती है। डाक्‍टरों का मानना है कि यह जानलेवा भी साबित हो सकती है क्‍योंकि इसके सेवन से
अधिक दूध के लिए गाय या भैस को दिया जाता है
डॉक्‍टरों ने बताया कि ऑक्‍सीटॉन का प्रयोग गाय या भैस से दूध निकालने या फिर लौकी या अन्‍य सब्जियों को समय से पहले विकसित करने के लिये किया जाता है। बाल रोग विशेषज्ञ ने बताया कि यह दवा अगर बच्चियों को दिया जाता है तो उससे उनके स्‍तन में विकास होने के साथ ही साथ उनके मासिक श्राव भी आने लगते हैं। मगर तन से सयानी और मन से मासूम बच्चियों के शरीर होने वाली यह हलचल जल्‍द ही उन्‍हें मौत की कागार पर पहुंचा देती है।

 

You May Also Like

English News