बड़ा खुलासा: डेरा प्रमुख के खिलाफ फैसला आने के बाद, हनीप्रीत ने इस शख्स को हिंसा भड़काने के लिए किया था इशारा

राम रहीम को सजा होने के बाद हनीप्रीत ने इस व्यक्ति को इशारा किया था, जिसके बाद पंचकूला में हिंसा भड़की और 35 लोगों की जान चली गई। जानिए ये कौन है? बड़ा खुलासा: डेरा प्रमुख के खिलाफ फैसला आने के बाद, हनीप्रीत ने इस शख्स को हिंसा भड़काने के लिए किया था इशारा

केंद्र और राज्य सरकार पर लालू ने साधा निशाना, कहा- लड़ूंगा सीधी लड़ाई…

25 अगस्त को सीबीआई अदालत द्वारा गुरमीत राम रहीम को दोषी करार दिए जाने के बाद पंचकूला में हुई हिंसा में एमएसजी के सीईओ सीपी अरोड़ा का अहम रोल है। पुलिस सूत्रों की मानें तो सीपी आरोड़ा पंचकूला स्थित हैफेड के पास 25 अगस्त को लोगों की भीड़ में शामिल था। जहां से उसने डेरा प्रमुख के खिलाफ फैसला आने के बाद लोगों को हिंसा के लिए भड़काया।    

पुलिस सूत्रों के मुताबिक हिंसा की साजिश डेरे की 25 सदस्यीय कमेटी ने रची थी, इस कमेटी का सीपी अरोड़ा भी मेंबर है। प्लान के मुताबिक अदालत का फैसला आने के बाद हनीप्रीत ने अदालत के बाहर आकर राकेश को इशारा किया, ये इशारा संदेश था हिंसा का। 

उसके बाद राकेश ने ये संदेश फोन के जरिये डेरा समर्थकों के बीच मौजूद सीपी आरोड़ा और कोर कमेटी के मेंबरों तक पहुंचाया। इसके बाद संदेश डेरा समर्थकों तक पहुंचने के बाद पंचकूला में हिंसा और आगजनी की घटनाएं शुरू हो गईं। पुलिस सबूत के तौर पर सीपी अरोड़ा की कॉल डिटेल्स खंगालने में जुटी है। सीपी अरोड़ा का पूरा नाम छिंदर पाल अरोड़ा है। सीपी अरोड़ा डेरे के प्रवक्ता आदित्य इंसां का करीबी दोस्त है, जिसकी पुलिस को तलाश है।   

2016 में कम तनख्वाह पर किया था ज्वाइन 
2016 में सीपी अरोड़ा एमएसजी में आया था। बताया जा रहा है कि वह पहले से कम तनख्वाह पर गुरमीत राम रहीम की कंपनी एमएसजी में उसने ज्वाइन किया। पहले वह गुड़गांव की एक कंपनी में साढ़े छह लाख रुपये की तनख्वाह लेता था। लेकिन डेरे की कंपनी ने पांच लाख रुपये की तनख्वाह फिक्स की थी। इसके पीछे वजह क्या है, इसकी भी पूछताछ पुलिस जांच कर रही है।    

आदित्य इंसा के संबंध में पूछताछ जारी  
सीपी अरोड़ा को हरियाणा की एसआईटी ने फतेहाबाद से गिरफ्तार किया था। अदालत में पेश करने के बाद पुलिस को छह दिन का रिमांड मिला है। आदित्य इंसा कहां छुपा है, इस संबंध में भी पुलिस ने उससे पूछताछ की, लेकिन पुलिस को आदित्य इंसा का सुराग नहीं मिल पाया है। 

करीब 35 लोग मारे गए थे 
बता दें कि 25 अगस्त को बाबा राम रहीम को दो साध्वियों से रेप का दोषी ठहराया गया था और इस दौरान पंचकूला सहित हरियाणा और पंजाब की कई जगहों पर हिंसक प्रदर्शन हुए थे। पंचकूला में इस हिंसा में करीब पैंतीस लोग मारे गए थे।

You May Also Like

English News