बड़ा खुलासा: मोदी का दावा निकला खोखला, नोटबंदी से निपटने की नहीं हुई थी तैयारी

आठ नवंबर को पीएम नरेंद्र मोदी ने अचानक 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों को बंद करने की घोषणा की तो पूरे देश में हडकंप मच गया| उस समय खुद पीएम मोदी ने देश की जनता से इसका डट कर सामना करने की सलाह दी थी| उन्होंने कहा था कि घबराने जैसी कोई बात नहीं है क्योंकि आरबीआई के पास नोटबंदी से निपटने के लिए पर्याप्त नई नकदी है|

3787_b

नोटबंदी से निपटने की नहीं थी तैयारी

PM मोदी सबसे बड़ा ऐलान: 25 नंवबर के बाद लोगों के खाते में भेजूंगा करोड़ों रुपये

लेकिन बैंकों और एटीएम के बाहर लगी लम्बी लम्बी कतारों ने ये साबित कर दिया कि इस फैसले को लेने से पहले सही रणनीति नहीं बनाई गई| मुंबई के आरटीआई ऐक्टिविस्ट अनिल गलगाली को रिजर्व बैंक की ओर से यह जानकारी मिली है|

अभी-अभी: चार अधिकारियों की मौत,पीएम मोदी को लेकर जाने वाला हेलीकॉप्टर क्रैश

इकोनोमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक़, आठ नवंबर को जब नोटबंदी का ऐलान हुआ तो रिजर्व बैंक के पास सिर्फ 4.94 लाख करोड़ रुपये की नई करेंसी थी| यह राशि नोटबंदी में अमान्य हुए करीब 20 लाख करोड़ रुपये के एक चौथाई से भी कम थी| 

आरबीआई ने बताया है कि नोटबंदी के ऐलान के वक्त उसके पास 24,730 लाख 2,000 रुपये के नए नोट मौजूद थे| जबकि, 9.13 लाख करोड़ रुपये के पुराने 1,000 के नोट और 11.38 लाख करोड़ के पुराने 500 के नोट मौजूद थे|

 

You May Also Like

English News