बड़ी खबर: इन राज्यों में McDonald’s के 50 फीसदी आउटलेट्स हुए बंद

बर्गर चेन मैकडोनाल्ड्स के उत्तर और पूर्वी भारत में स्थित 84 से अधिक आउटलेट्स बंद हो गए हैं। इससे कंपनी के आधे से ज्यादा रेस्टोरेंट पर ताला पड़ गया है, जिसके चलते अब लोगों को उनका पसंदीदा बर्गर और सॉफ्टी खाने को नहीं मिलेगी। इसका असर दिल्ली-एनसीआर में मौजूद कंपनी के आउटलेट्स पर भी पड़ा है। 
McDonald's के 50 फीसदी आउटलेट्स हुए बंद, अब इन राज्यों में नहीं मिलेगा बर्गर
इस वजह से बंद हुए आउटलेट्स 
विक्रम बख्शी और मैकडोनाल्ड्स के बीच 50-50 फीसदी हिस्सेदारी वाले कनॉट प्लाजा रेस्टोरेंट (सीपीआरएल) में कच्चा माल सप्लाई करने वाले राधाकृष्ण फूडलैंड ने आपूर्ति को ठप्प कर दिया है। इसका असर ज्यादातर आउटलेट्स पर पड़ रहा है। राधाकृष्ण फूडलैंड ने कहा है कि सीपीआरएल ने काफी लंबे समय से बकाया पैसा जमा नहीं किया है। 

सप्लाई रखने के लिए एयरलिफ्ट कर रहे हैं कच्चा माल
टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक बख्शी ने कहा कि वो सप्लाई और रेस्टोरेंट खुले रखने के लिए कच्चे माल को देश के अन्य भागों से एयरलिफ्ट कर रहे हैं। बख्शी ने कहा कि सीपीआरएल राधाकृष्ण फूडलैंड से बात कर रहा है। 2 करोड़ रुपये के बकाये के अलावा कंपनी के पास 10 करोड़ के स्टॉक हैं। हम फिलहाल 50 लाख रुपये देकर के सप्लाई शुरू करने के लिए कह रहे हैं। 

वहीं दूसरी तरफ राधाकृष्ण फूडलैंड के प्रमोटर राजू शेटे ने कहा कि हमने सीपीआरएल को 3 पत्र लिखे और बख्शी से मीटिंग भी कीं, लेकिन अभी तक कोई हल नहीं निकला है। 

मैकडोनाल्ड ने अगस्त में खत्म किया था फ्रैंचाइजी लाइसेंस

अब आपको अपना पसंदीदा महराजा या आलू टिक्की बर्गर खाने के लिए नहीं मिलेगा। इससे पहले जून में कंपनी ने दिल्ली में अपने 43 आउटलेट्स बंद किए थे। दिल्ली में मैकडोनाल्ड ने अपनी 80 फीसदी रेस्तरां जून में बंद कर दिए थे। CRPL के पास 21 साल का लाइसेंस था, जिसको उसने मैकडोनाल्ड से रिन्यु नहीं किया था। CPRL में विक्रम बख्शी और मैकडोनाल्ड के बीच 50-50 फीसदी की पार्टनरशिप थी ।

2013 में विक्रम बख्शी को एमडी पद से हटाया
2013 में मैकडोनाल्ड ने विक्रम बख्शी को सीपीआरएल के एमडी पद से हटा दिया था, जिसके खिलाफ बख्शी ने कंपनी लॉ बोर्ड में याचिका दायर की थी। इसके बाद बख्शी मामले को दिल्ली हाईकोर्ट में लेकर के चले गए थे। करार के खत्म होने के बाद मैकडोनाल्ड के इन आउटलेट्स के बंद होना लाजिमी है और ये कब तक फिर से खुलेंगे, इस बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता।

 
loading...

You May Also Like

English News