#बड़ी खबर: इस फेस्टिव सीजन में डेबिट कार्ड से नहीं बुक होंगे रेल टिकट…

अगर आपने दशहरा-दिवाली जैसे बड़े त्योहार पर घर जाने की सोच रहे हैं और अभी तक रेल का टिकट बुक नहीं कराया है, तो फिर आने वाले दिनों में आपको मुश्किल आने वाली है। खासतौर पर उन लोगों के लिए जो आईआरसीटीसी की वेबसाइट या फिर ऐप के माध्यम से टिकट बुक करते हैं। आप अपने टिकट को डेबिट कार्ड से बुक नहीं करा सकेंगे। केवल क्रेडिट कार्ड या फिर नेट बैंकिंग के माध्यम से ही टिकट बुक करने की सुविधा आपको मिलेगी। #बड़ी खबर: इस फेस्टिव सीजन में डेबिट कार्ड से नहीं बुक होंगे रेल टिकट...

Breaking: जानिए क्यों अचानक कार्यक्रम में भड़क उठे वित्त मंत्री जेटली!

हालांकि आईआरसीटीसी और रेलवे ने इस खबर को बेबुनियाद करार देते हुए कहा कि ऐसा नहीं है। रेल मंत्रालय और आईआरसीटीसी ने शनिवार को बयान जारी करके कहा कि बैंकों के डेबिट-क्रेडिट कार्ड से टिकट बुक किया जा सकता है। 

पहले आई थी ये खबर

इससे पहले एफईऑनलाइन पर प्रकाशित खबर के मुताबिक कहा गया था कि बैंकों और आईआरसीटीसी में विवाद के चलते इसका खामियाजा आम पब्लिक को भुगतना पड़ रहा है। बैंकों ने ट्रांजेक्शन पर मिलने वाली फीस को शेयर करने से मना कर दिया है, जिसके कारण ये दिक्कतें आ रही हैं। इन बैंकों में देश का सबसे बड़ा बैंक एसबीआई भी शामिल है, जिसके डेबिट कार्ड से ट्रांजेक्शन करने पर फिलहाल आईआरसीटीसी ने रोक लगा रखी है।  

इन बैंकों के कस्टमर को मिल रही है सर्विस
एफई ऑनलाइन के मुताबिक, आईआरसीटीसी ने अपनी वेबसाइट पर जिन बैंकों के डेबिट कार्ड से टिकट बुक कराने की सुविधा दे रखी है उनमें इंडियन ओवरसीज बैंक, केनरा बैंक, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया, इंडियन बैंक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, एचडीएफसी और एक्सिस बैंक शामिल हैं। इस साल की शुरुआत में आईआरसीटीसी ने बैंकों से आधी फीस को शेयर करने के लिए कहा था, जिसके लिए ज्यादातर बैंक राजी नहीं हुए हैं। 

नोटबंदी के बाद माफ की थी कन्वेंस फीस
आईआरसीटीसी ने नोटबंदी के बाद 20 रुपये की कन्वेंस फीस को माफ कर दिया था। अब आईआरसीटीसी बैंकों को किसी तरह की कोई फीस नहीं दे रहा है, बल्कि उल्टे बैंकों से आधी कन्वेंस फीस शेयर करने के लिए कह रहा है जो की पूरी तरह से बैकिंग नियमों के विरुद्ध है। 

एसबीआई के एक अधिकारी ने एफई से कहा कि आईआरसीटीसी द्वारा डेबिट कार्ड से ट्रांजेक्शन करने पर रोक लगाने से हमें प्रतिदिन 50 हजार से अधिक ट्रांजेक्शनों का नुकसान हो रहा है, क्योंकि देश में एक बहुत बड़ी संख्या में एसबीआई के खाताधारक हैं। 

You May Also Like

English News