#बड़ी खबर: सरकार ने बढ़ाई कस्टम ड्यूटी, महंगा हुआ मोबाइल, टीवी- माइक्रोवेव खरीदना

अब से विदेश से इंपोर्ट किए गए मोबाइल फोन, एलईडी टीवी और माइक्रोवेव खरीदना महंगा हो गया है। केंद्र सरकार ने बेसिक कस्टम ड्यूटी को बढ़ा दिया है। यह कदम इसलिए उठाया गया है ताकि मेक इन इंडिया को बढ़ावा मिल सके। #बड़ी खबर: सरकार ने बढ़ाई कस्टम ड्यूटी, महंगा हुआ मोबाइल, टीवी- माइक्रोवेव खरीदना

बड़ी खबर: गुजरात चुनाव के बाद बढ़ेंगी पेट्रोल-डीजल की कीमतें….

इतने महंगे हो गए फोन और टीवी
केंद्र के इस कदम से अब मोबाइल फोन 15 फीसदी महंगे हो गए हैं। इसके साथ ही एलईडी टीवी और माइक्रोवेव के प्राइस में 20 फीसदी की बढ़ोतरी हो गई है। यह बढ़ोतरी केवल उन उपकरणों पर हुई है, जिनको विदेश से इंपोर्ट किया जाता है। देश में बनने वाले मोबाइल फोन, टीवी और माइक्रोवेव के दाम नहीं बढ़ेंगे। इस बारे में सरकार ने गुरुवार रात को नोटिफिकेशन जारी कर दिया था। 

जीएसटी के बाद बढ़ा था प्राइस
जीएसटी के लागू होने के बाद केंद्र सरकार ने पहली बार मोबाइल पर 10 फीसदी बेसिक कस्टम ड्यूटी को बढ़ा दिया था। सरकार ने मोबाइल फोन, मोबाइल फोन के पुर्जों और कुछ इलेक्‍ट्रॉनिक सामानों पर 10 फीसदी बेसिक कस्‍टम ड्यूटी (BCD) लगा दी थीजिसके बाद इन सामानों को विदशों से मंगाना महंगा हो जाएगा।

इन पर लागू होगी बेसिक कस्टम ड्यूटी

जिन इलेक्ट्रॉनिक सामानों पर बेसिक कस्टम ड्यूटी लागू होगी उनमें स्मार्टफोन, फोन का चार्जर, बैटरी, हेडफोन, माइक्रोफोन, की-पैड शामिल हैं। साथ ही यूएसबी केबल और दूसरे इलेक्ट्रॉनिक प्रोडक्ट्स पर भी कस्टम ड्यूटी लगाई जाएगी। वहीं मोबाइल के कुछ अन्य पार्ट्स जैसे- प्रिंटेड सर्किट बोर्ड, कैमरा मॉड्यूल, कनेक्टर्स डिस्प्ले, टच पैनल, कवर ग्लास, वाइव्रेटर पर कोई टैक्स नहीं लगेगा।

इन कंपनियों के मोबाइल हो जाएंगे महंगे
सरकार ने विदेश से मंगाए जाने वाले मोबाइल फोन, फोन के पार्ट्स पर 10 फीसदी बेसिक कस्टम ड्यूटी लगा दी है जिसके बाद दूसरे देशों से भारत में मंगाए जाने वाले स्मार्टफोन महंगे हो जाएंगे। दूसरे शब्दों में कहें तो सरकार ने जीएसटी लागू करके एप्पल, शाओमी, नोकिया, मोटोरोला, लेनोवो और घरेलू मोबाइल निर्माता कंपनियों जैसे- इंटेक्स, लावा, माइक्रोमैक्स को बड़ी राहत दी है।

जीएसटी के बाद अब सैमसंग, एलजी, ओप्पो, वीवो, जियोनी, एचटीसी जैसी विदेशी कंपनियां भारत में अपना मैन्यूफैक्चरिंग प्लांट लगाने पर मजबूर होंगी। यानी जब तक भारत में इन कंपनियों के मैन्यूफैक्चरिंग प्लांट शुरू नहीं हो जाते, तब तक इनके फोन महंगे बिकेंगे।

You May Also Like

English News