#बड़ी खबर: 13 हजार शिक्षकों की भर्ती पर गहराया संकट, 2011 की भर्ती कब होगी ये भी पता नहीं

माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड का गठन नहीं होने से टीजीटी एवं पीजीटी के 13 हजार से अधिक पदों की भर्ती अटक गई है। इसमें में अकेले 2016 की विभिन्न विषयों की नौ हजार से अधिक भर्तियां शामिल हैं, जिसके लिए अक्तूबर में परीक्षा कराने की घोषणा भी की जा चुकी है। यही नहीं 2011 की चार हजार से अधिक शिक्षकों की भर्ती कब होगी, तय भी नहीं है।#बड़ी खबर: 13 हजार शिक्षकों की भर्ती पर गहराया संकट, 2011 की भर्ती कब होगी ये भी पता नहीं#BigNews: कुछ ही देर में सीएम योगी पहुंचने वाले है काशी, लेंगे अफसरों की क्लास

भाजपा सरकार के गठन के बाद से ही माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड में काम ठप पड़े हैं। सरकार के निर्देश पर चयन बोर्ड में भर्ती से जुड़े परिणाम, साक्षात्कार आदि रोके गए हैं। इसकी वजह से 18 लाख से अधिक अभ्यर्थियों के सामने गंभीर संकट खड़ा हो गया है। इसे लेकर धरना-प्रदर्शन शुरू हुआ।

अभ्यर्थियों ने मुख्यमंत्री, उप मुख्यमंत्री, माध्यमिक शिक्षा मंत्री से लेकर इलाहाबाद आने वाले उच्चाधिकारियों को घेरा, लखनऊ में भी मुलाकात की। फिर भी भर्ती प्रक्रिया न शुरू होने पर कुछ अभ्यर्थियों ने न्यायालय की शरण ली तो सरकार ने रोक से इनकार कर दिया।

जुलाई में आया टीजीटी-पीजीटी 2011 के कुछ विषयों का परिणाम 
सरकार द्वारा रोक से इंकार करने के बाद जुलाई में तत्कालीन चेयरमैन हीरा लाल गुप्ता ने 2011 टीजीटी के विज्ञान, हिंदी और संस्कृत और पीजीटी बॉटनी, मनोविज्ञान, नागरिक शास्त्र, इतिहास एवं कॉमर्स का परिणाम घोषित कर दिया।

इसी के साथ 2016 टीजीटी-पीजीटी की परीक्षा अक्तूबर में कराने की घोषणा भी कर दी थी। इस परीक्षा के लिए आवेदन करने वालों की संख्या 12 लाख से अधिक है, जबकि 2011 की परीक्षा में भी छह लाख से अधिक अभ्यर्थी शामिल हुए थे।

loading...

You May Also Like

English News