बड़ी खबर: ISPR ने कहा- जल्द ही PAK को देंगे कुलभूषण जाधव की मौत की ‘गुड न्यूज’

पाकिस्तान के कब्जे में मौजूद भारतीय नौसेना के पूर्व ऑफिसर कूलभूषण जाधव पर पाकिस्तानी संस्था आईएसपीआर ने बड़ा दावा किया है. इंटर सर्विस पब्लिक रिलेशंस (ISPR) के मेजर जनरल आसिफ गफूर ने कहा है कि कूलभूषण जाधव की दया याचिका अपने अंतिम चरण में है. जल्द ही पाकिस्तान की जनता को गुड न्यूज दिया जाएगा.

बड़ी खबर: ISPR ने कहा- जल्द ही PAK को देंगे कुलभूषण जाधव की मौत की 'गुड न्यूज' आपको बता दें कि भारतीय नौसेना के 46 साल के सेवानिवृत्त अधिकारी जाधव को पाकिस्तान की मिलिट्री कोर्ट ने पाकिस्तान के खिलाफ कथित रुप से जासूसी और विध्वंसकारी गतिविधियों में संलिप्तता के लिए अप्रैल में मौत की सजा सुनाई थी.

18 मई को इस मामले की सुनवाई करते हुए अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत की 10 सदस्यीय पीठ ने जाधव की फांसी की सजा के अमल पर रोक लगा दी थी. जिसके जवाब में पाकिस्तान ने ICJ में कहा कि वियना समझौते में कंसुलर संपर्क से जुड़े प्रावधान आतंकी गतिविधियों में शामिल किसी जासूस के लिए नहीं है.

पाकिस्तान ने जाधव को राजनयिक पहुंच उपलब्ध कराने के लिए भारत के आग्रह को अब तक ठुकरा दिया है. 46 वर्षीय पूर्व नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव को पिछले साल तीन मार्च को पाकिस्तान ने गलत तरीके से गिरफ्तार किया गया था.

UN में सुषमा स्वराज ने पाकिस्तान को लताड़ा

वहीं UN में भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने आतंकवाद के मु्द्दे पर पाकिस्तान को जमकर खरी-खोटी सुनाई, जिसके बाद से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है. पिछले हफ्ते ही पाकिस्तान झूठ के पुलिंदे के साथ सामने आया.

आतंकवादी से बदलने का प्रस्ताव

पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने दावा किया है कि भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव के बदले 2014 पेशावर स्कूल हमले के जिम्मेदार और अफगानिस्तान की जेल में बंद एक आतंकवादी को देने का प्रस्ताव दिया गया था.

पाक विदेश मंत्री ने किया दावा

पाक विदेश मंत्री ख्वाजा मोहम्मद आसिफ ने न्यूयॉर्क में लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि पेशावर में एपीएस (आर्मी पब्लिक स्कूल) में बच्चों की हत्या करने वाला आतंकवादी अफगानिस्तान प्रशासन के हिरासत में है. राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) ने मुझसे कहा कि हम उस आतंकवादी से आपके पास मौजूद आतंकवादी जो कि कुलभूषण जाधव है, की अदला बदली कर सकते हैं.

मंत्री ने यह दावा एशिया सोसायटी में एक सवाल के जवाब में किया. हालांकि उन्होंने आतंकवादी का नाम और उस एनएसए के बारे में स्पष्ट नहीं किया जिसके संदर्भ में उन्होंने यह बात की.

 

You May Also Like

English News