भविष्य का लड़ाकू विमान है तेजस – धनोआ

देश में बने हल्के लड़ाकू विमान तेजस बेजोड़ है. पाकिस्तान का सिंगल इंजन वाला लड़ाकू विमान जेएफ-17 इसके सामने कहीं नहीं ठहरता है. एयर चीफ मार्शल धनोआ ने कहा जेएफ-17  वर्तमान का, तो तेजस को भविष्य का लड़ाकू विमान है . यह बात उन्होंने नई दिल्ली में एक समारोह में कही .नई दिल्ली : देश में बने हल्के लड़ाकू विमान तेजस बेजोड़ है. पाकिस्तान का सिंगल इंजन वाला लड़ाकू विमान जेएफ-17 इसके सामने कहीं नहीं ठहरता है. एयर चीफ मार्शल धनोआ ने कहा जेएफ-17  वर्तमान का, तो तेजस को भविष्य का लड़ाकू विमान है . यह बात उन्होंने नई दिल्ली में एक समारोह में कही .  आपको बता दें कि वायु सेना प्रमुख बीएस धनोआ ने नई दिल्ली में एक समारोह में एक एविएशन जर्नल में छपे आलेख का संदर्भ देते हुए कहा कि इसमें लेखक ने बताया है कि जेएफ-17 तकनीकी रूप से उतना उन्नत नहीं है, जितना तेजस है. इसलिए जेएफ-17 जहाँ वर्तमान का लड़ाकू विमान है, जबकि विशेषज्ञ तेजस को भविष्य का लड़ाकू विमान मानते हैं. इसकी कई व्यवस्थाएं काफी उम्दा हैं.  उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान का जेएफ-17 एक सिंगल इंजन हल्का लड़ाकू विमान है, जिसका चीन और पाकिस्तान ने संयुक्त रूप से निर्माण किया है. जबकि हिंदुस्तान एयरोनाटिक्स लिमिटेड (एचएएल) द्वारा निर्मित लड़ाकू विमान तेजस भारतीय वायु सेना में जुलाई 2916 में शामिल किया गया. इसी माह हुए संयुक्त युद्धाभ्यास 'गगन शक्ति 2018' में भी तेजस ने अपनी युद्धक क्षमता प्रदर्शित की थी. धनोआ के अनुसार तेजस की उत्कृष्टता इस बात पर निर्भर करेगी कि हम उसे किस तरह से लैस करते हैं.भविष्य में तेजस अपनी पहचान बनाने में कामयाब होगा.

आपको बता दें कि वायु सेना प्रमुख बीएस धनोआ ने नई दिल्ली में एक समारोह में एक एविएशन जर्नल में छपे आलेख का संदर्भ देते हुए कहा कि इसमें लेखक ने बताया है कि जेएफ-17 तकनीकी रूप से उतना उन्नत नहीं है, जितना तेजस है. इसलिए जेएफ-17 जहाँ वर्तमान का लड़ाकू विमान है, जबकि विशेषज्ञ तेजस को भविष्य का लड़ाकू विमान मानते हैं. इसकी कई व्यवस्थाएं काफी उम्दा हैं.

उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान का जेएफ-17 एक सिंगल इंजन हल्का लड़ाकू विमान है, जिसका चीन और पाकिस्तान ने संयुक्त रूप से निर्माण किया है. जबकि हिंदुस्तान एयरोनाटिक्स लिमिटेड (एचएएल) द्वारा निर्मित लड़ाकू विमान तेजस भारतीय वायु सेना में जुलाई 2916 में शामिल किया गया. इसी माह हुए संयुक्त युद्धाभ्यास ‘गगन शक्ति 2018’ में भी तेजस ने अपनी युद्धक क्षमता प्रदर्शित की थी. धनोआ के अनुसार तेजस की उत्कृष्टता इस बात पर निर्भर करेगी कि हम उसे किस तरह से लैस करते हैं.भविष्य में तेजस अपनी पहचान बनाने में कामयाब होगा.

You May Also Like

English News