भाजपा जम्मू से बनाएगी अगला सीएम

जम्मू-कश्मीर की भाजपा इकाई के अध्यक्ष रविंद्र रैना ने दावा किया है कि पार्टी आगामी विधानसभा चुनाव में 44 से ज्यादा सीटें जीतेगी और अगला मुख्यमंत्री जम्मू से बनाया जाएगा.जम्मू-कश्मीर की भाजपा इकाई के अध्यक्ष रविंद्र रैना ने दावा किया है कि पार्टी आगामी विधानसभा चुनाव में 44 से ज्यादा सीटें जीतेगी और अगला मुख्यमंत्री जम्मू से बनाया जाएगा.    बता दें कि जम्मू की भाजपा इकाई द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में जम्मू-कश्मीर की भाजपा इकाई के अध्यक्ष रविंद्र रैना ने कार्यकर्ताओं से कहा कि भाजपा 2020 के विधानसभा चुनाव में 44 से ज्यादा सीटें जीतेगी और अगला मुख्यमंत्री जम्मू से होगा.इस मौके पर उन्होंने प्रेमनाथ डोगरा भवन को पवित्र स्थल बताते हुए कहा कि उन्होंने जम्मू-कश्मीर के देश के एकीकरण के लिए डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के साथ मिलकर बहुत संघर्ष किया.    उल्लेखनीय है कि भाजपा के इस आयोजन में रैना ने कार्यकर्ताओं को अगले लोकसभा चुनाव में भाजपा की जीत सुनिश्चित करने के लिए कड़ी मेहनत करने आह्वान करते हुए कहा कि वे वह आखिरी सांस तक भाजपा का झंडा थामे रहेंगे.इस आयोजन में बड़ी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे. स्मरण रहे कि  भाजपा जम्मू कश्मीर में अपनी बहुमत की सरकार के लिए लम्बे समय से प्रयास कर रही है , लेकिन अभी तक सफलता नहीं मिली है. इसीलिए पीडीपी जैसे संगठन से हाथ मिलाकर सत्ता में आई है. लेकिन उसका असली मकसद अभी तक पूरा नहीं हुआ है.

बता दें कि जम्मू की भाजपा इकाई द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में जम्मू-कश्मीर की भाजपा इकाई के अध्यक्ष रविंद्र रैना ने कार्यकर्ताओं से कहा कि भाजपा 2020 के विधानसभा चुनाव में 44 से ज्यादा सीटें जीतेगी और अगला मुख्यमंत्री जम्मू से होगा.इस मौके पर उन्होंने प्रेमनाथ डोगरा भवन को पवित्र स्थल बताते हुए कहा कि उन्होंने जम्मू-कश्मीर के देश के एकीकरण के लिए डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के साथ मिलकर बहुत संघर्ष किया.

उल्लेखनीय है कि भाजपा के इस आयोजन में रैना ने कार्यकर्ताओं को अगले लोकसभा चुनाव में भाजपा की जीत सुनिश्चित करने के लिए कड़ी मेहनत करने आह्वान करते हुए कहा कि वे वह आखिरी सांस तक भाजपा का झंडा थामे रहेंगे.इस आयोजन में बड़ी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे. स्मरण रहे कि  भाजपा जम्मू कश्मीर में अपनी बहुमत की सरकार के लिए लम्बे समय से प्रयास कर रही है , लेकिन अभी तक सफलता नहीं मिली है. इसीलिए पीडीपी जैसे संगठन से हाथ मिलाकर सत्ता में आई है. लेकिन उसका असली मकसद अभी तक पूरा नहीं हुआ है.

You May Also Like

English News