भारतीय सेना का एक खास राईफल को खरीदने का प्रयास, खर्च होंगे अरबों रुपए

भारतीय सेना ने नई जेनरेशन की खास राइफल की तलाश में है। पहले ही ऐसी राइफल की खरीद की कोशिश कर चुकी भारतीय सेना दोबारा प्रयास तेज कर दिए हैं। अंग्रेजी अखबार ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ की रिपोर्ट के मुताबिक, अव्यवहारिक तकनीकी जरूरतों और भ्रष्टाचार के डर से भारत की कोशिश सफल नहीं सकी थी। इसके साथ ही यह बहस भी हो रही कि जो राइफल खरीदी जाए वे दुश्मन को ‘मारने’ या सिर्फ ‘घायल’ करने में सक्षम होनी चाहिए।भारतीय सेना का एक खास राईफल को खरीदने का प्रयास, खर्च होंगे अरबों रुपए

सेना एक बार में ही 65,000 राइफल्स खरीदना चाहती है। इसके साथ ही करीब 1,20,000 राइफल्स भारत में भी बनाई जानी हैं। करीब 12 लाख जवानों की सेना के लिए यह  यह बड़ा प्रोजेक्ट माना जा रहा है जिस पर करीब  एक बिलियन डॉलर खर्च आएगा।

रक्षा मंत्रालय ने राइफल्स की तलाश के लिए रिक्वेस्ट फोर इन्फोर्मेशन (आरएफआई) जारी की है। इसमें  जिक्र किया गया है कि सेना को 7.62mm x 51mm की राइफल्स चाहिए। ये राइफल्स किसी को भी मार गिरा सकती है।  अभी भारतीय सेना 5.56 mm वाली राइफल्स का इस्तेमाल करती है।

सेना को जो राइफल्स चाहिए वह कम से कम 500 मीटर की रेंज वाली होनी चाहिए।  राइफल में यह खासियत भी होनी चाहिए कि वह 40mm अंडर-बैरल ग्रेनेड लॉन्चर में फिट हो जाए। साथ ही ऐसा राइफल्स होनी चाहिए जो  अगले 25-30 सालों तक भी फिट रहे।

You May Also Like

English News