भारत के नक़्शे से गायब हुआ जम्मू कश्मीर !

महाराष्ट्र में हाल में प्रकाशित हुई एसएससी की पाठ्यपुस्तकों में शामिल भारत के नक्शे से जम्मू – कश्मीर का एक हिस्सा गायब है और तिरंगे की गलत तस्वीर भी दी गई है, यह आरोप लगाया है कांग्रेस नेता राधाकृष्ण विखे पाटिल ने. हालांकि किताबों के लिए पाठ्यक्रम  निर्धारित करने और उनको छपवाने के लिए जिम्मेदार एजेंसी ने इन आरोपों का खंडन किया है.महाराष्ट्र में हाल में प्रकाशित हुई एसएससी की पाठ्यपुस्तकों में शामिल भारत के नक्शे से जम्मू - कश्मीर का एक हिस्सा गायब है और तिरंगे की गलत तस्वीर भी दी गई है, यह आरोप लगाया है कांग्रेस नेता राधाकृष्ण विखे पाटिल ने. हालांकि किताबों के लिए पाठ्यक्रम  निर्धारित करने और उनको छपवाने के लिए जिम्मेदार एजेंसी ने इन आरोपों का खंडन किया है.  इससे पहले विखे पाटिल ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को लिखे पत्र में सम्बंधित मामले की जांच करने और  महाराष्ट्र स्टेट ब्यूरो ऑफ टेक्स्टबुक प्रोडक्शन एंड करिकुलम रिसर्च द्वारा आगामी शैक्षणिक वर्ष के लिए प्रकाशित की गई, 10 की भूगोल की किताब में गलती के लिए दोषी लोगों को गिरफ्तार करने की मांग की है. कांग्रेसी नेता ने कहा है कि ‘तीसरे अध्याय की पृष्ठ संख्या 24 पर भारत का नक्शा प्रकाशित किया गया है लेकिन उसमें देश की सीमाओं के भीतर जम्मू - कश्मीर का एक बड़ा हिस्सा नहीं दिख रहा है.’ इसके अलावा उन्होंने पुस्तक में एक और गलती बताते हुए कहा है कि दूसरे अध्याय की पृष्ठ संख्या नौ में प्रकाशित तिरंगे की एक तस्वीर में अशोक चक्र का रंग गलत है.  पाटिल के इन आरोपों पर ब्यूरो के निदेशक सुनील मगर ने कहा है कि तिरंगे में चक्र का रंग ध्वज संहिता के हिसाब से सही है. जबकि भारत के नक़्शे के बारे में उन्होंने कहा कि पृष्ठ संख्या 24 में दर्ज तस्वीर भारत का राजनीतिक नक्शा नहीं है. इसके साथ ही उन्होंने तर्क दिया कि 4 रंगों में छपवाने के कारण तिरंगे में चक्र का शेड कुछ अलग लग रहा है, लेकिन इसमें हमारा कोई दोष नहीं है, तकनिकी सीमाओं के कारण ऐसा हुआ है.

इससे पहले विखे पाटिल ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को लिखे पत्र में सम्बंधित मामले की जांच करने और  महाराष्ट्र स्टेट ब्यूरो ऑफ टेक्स्टबुक प्रोडक्शन एंड करिकुलम रिसर्च द्वारा आगामी शैक्षणिक वर्ष के लिए प्रकाशित की गई, 10 की भूगोल की किताब में गलती के लिए दोषी लोगों को गिरफ्तार करने की मांग की है. कांग्रेसी नेता ने कहा है कि ‘तीसरे अध्याय की पृष्ठ संख्या 24 पर भारत का नक्शा प्रकाशित किया गया है लेकिन उसमें देश की सीमाओं के भीतर जम्मू – कश्मीर का एक बड़ा हिस्सा नहीं दिख रहा है.’ इसके अलावा उन्होंने पुस्तक में एक और गलती बताते हुए कहा है कि दूसरे अध्याय की पृष्ठ संख्या नौ में प्रकाशित तिरंगे की एक तस्वीर में अशोक चक्र का रंग गलत है.

पाटिल के इन आरोपों पर ब्यूरो के निदेशक सुनील मगर ने कहा है कि तिरंगे में चक्र का रंग ध्वज संहिता के हिसाब से सही है. जबकि भारत के नक़्शे के बारे में उन्होंने कहा कि पृष्ठ संख्या 24 में दर्ज तस्वीर भारत का राजनीतिक नक्शा नहीं है. इसके साथ ही उन्होंने तर्क दिया कि 4 रंगों में छपवाने के कारण तिरंगे में चक्र का शेड कुछ अलग लग रहा है, लेकिन इसमें हमारा कोई दोष नहीं है, तकनिकी सीमाओं के कारण ऐसा हुआ है. 

You May Also Like

English News