‘भारत बंद’ के लिए राहुल गाँधी कसूरवार: मोदी

बिहार के उप-मुख्यमंत्री और भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने भारत बंद के दौरान देश में फैली हिंसा और तनाव को लेकर राहुल गाँधी पर निशाना साधा है, सुशिल ने कहा है कि देश को आग में झोंकने के लिए राहुल गांधी ने किस विदेशी एजेंसी का सहारा लिया? इस दौरान उन्होंने कांग्रेस के साथ आने वाले सभी विपक्षी दलों को भी जमकर लताड़ा.पटना: बिहार के उप-मुख्यमंत्री और भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने भारत बंद के दौरान देश में फैली हिंसा और तनाव को लेकर राहुल गाँधी पर निशाना साधा है, सुशिल ने कहा है कि देश को आग में झोंकने के लिए राहुल गांधी ने किस विदेशी एजेंसी का सहारा लिया? इस दौरान उन्होंने कांग्रेस के साथ आने वाले सभी विपक्षी दलों को भी जमकर लताड़ा.  सुशील कुमार मोदी ने कहा कि सरकार ने अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति संशोधन विधेयक 2015 को लागू करा कर मजबूत कानून बनाया था, दलित और वंचित तबके के लोगों का जीवन स्तर बेहतर बनाने के लिए केंद्र सरकार की योजनाएं चलाई गई थी. लेकिन सोनिया गांधी की दावत उड़ाने वाले बीस दलों ने दलितों को गुमराह कर पूरे देश में हिंसा का माहौल बनवा दिया, सुप्रीम कोर्ट के आदेश की आड़ में दलितों को गुमराह किया गया. बक़ौल सुशिल विपक्षी एकता की कीमत की पहली किस्त देश ने चुका दी है और करोड़ों की राष्ट्रीय संपदा और बेगुनाहों की जान गंवा कर यह पहली किस्त चुकाई गई है.  सुशील कुमार मोदी ने राहुल गांधी पर भी निशाना साधा और कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने जो आदेश पारित किया, उसका सरकार से तो कोई संबंध था नहीं लेकिन इसे जान बूझकर केंद्र सरकार से जोड़ दिया गया. सुशील मोदी ने कहा कि सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दायर की. पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई और फैसले का इंतजार किए बगैर देश को हिंसा की आग में झोंक दिया जाना अनुचित था.

सुशील कुमार मोदी ने कहा कि सरकार ने अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति संशोधन विधेयक 2015 को लागू करा कर मजबूत कानून बनाया था, दलित और वंचित तबके के लोगों का जीवन स्तर बेहतर बनाने के लिए केंद्र सरकार की योजनाएं चलाई गई थी. लेकिन सोनिया गांधी की दावत उड़ाने वाले बीस दलों ने दलितों को गुमराह कर पूरे देश में हिंसा का माहौल बनवा दिया, सुप्रीम कोर्ट के आदेश की आड़ में दलितों को गुमराह किया गया. बक़ौल सुशिल विपक्षी एकता की कीमत की पहली किस्त देश ने चुका दी है और करोड़ों की राष्ट्रीय संपदा और बेगुनाहों की जान गंवा कर यह पहली किस्त चुकाई गई है.

सुशील कुमार मोदी ने राहुल गांधी पर भी निशाना साधा और कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने जो आदेश पारित किया, उसका सरकार से तो कोई संबंध था नहीं लेकिन इसे जान बूझकर केंद्र सरकार से जोड़ दिया गया. सुशील मोदी ने कहा कि सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दायर की. पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई और फैसले का इंतजार किए बगैर देश को हिंसा की आग में झोंक दिया जाना अनुचित था.

You May Also Like

English News