भारत बांग्लादेश के बीच शुरू हुई एक और ट्रेन, सीमा पर हुआ स्वागत

करीब नौ साल पहले कोलकाता और ढाका के बीच मैत्री एक्सप्रेस ट्रेन की शुरुआत के बाद अब भारत और बांग्लादेश के बीच एक और ट्रेन शुरू हो रही है।

बड़ी खबर: भारत में उड़ानों के लिए अनिवार्य होगा पासपोर्ट और आधार कार्ड

खुलना-कोलकाता के बीच चलने वाली इस पहली ट्रेन का शनिवार को भारत-बांग्लादेश सीमा पर स्थित पेत्रापोल रेलवे स्टेशन पर भव्य स्वागत किया गया। तालियों की गूंज के बीच यह ट्रेन भारतीय सीमा में स्थित इस स्टेशन पर दोपहर 1.40 बजे पहुंची। डीजल इंजन से चलने वाली पांच डिब्बों वाली मैत्री एक्सप्रेस-द्वितीय की हर एक सीटी पर लोगों ने तालियां बजाईं। दरअसल, यह इस ट्रेन का ट्रायल रन था। इसमें बांग्लादेश का 43 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल सवार था। इन सभी का भारतीय रेल के अधिकारियों ने माला पहनाकर और गुलदस्ते देकर स्वागत किया।
इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना वाजेद ने नई दिल्ली से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए ट्रेन के ट्रायल रन को हरी झंडी दिखाई। ट्रेन बांग्लादेश के खुलना से सुबह 8.15 बजे रवाना हुई और बेनापोल के रास्ते भारतीय सीमा में दाखिल हुई। ट्रेन की 176 किलोमीटर की यात्रा का 96 किलोमीटर हिस्सा बांग्लादेश में पड़ता है। रेल अधिकारियों ने बताया कि यात्रियों के लिए इस ट्रेन को जुलाई से चलाने की संभावना है। पूर्व रेलवे के मंडलीय रेल प्रबंधक बासुदेव पांडा ने कहा, “उम्मीद है कि इस साल जुलाई से ट्रेन कोलकाता से खुलना के बीच वाया पेत्रापोल-बेनापोल चलने लगेगी। किराए और इसके फेरों की संख्या पर अभी फैसला होना बाकी है।”

बांग्लादेश रेलवे के मुख्य मैकेनिकल इंजीनियर (पश्चिम) मोहम्मद इफ्तिखार हुसैन ने कहा, “ट्रेन में वातानुकूलित और गैर वातानुकूलित डिब्बे होंगे और इनमें स्वास्थ्य सुविधाएं होंगी। इसका किराया मैत्री एक्सप्रेस-प्रथम के अनुरूप होगा।” पांडा ने कहा कि दोनों देश आव्रजन और कस्टम से जुड़ी औपचारिकताएं पूरी करने की व्यवस्था अंतिम स्टेशन पर करेंगे ताकि बीच में ‘चेंजओवर’ की जरूरत न पड़े। बांग्लादेश के गृह मंत्रालय की उप सचिव सैयद सलमा जाफरीन ने कहा कि इस ट्रेन से बांग्लादेश के दक्षिणी हिस्से के लोगों को लाभ होगा।

You May Also Like

English News