भारत में यात्रा करने के लिए अमेरिका ने अपने नागरिकों को जारी की एडवाइजरी

अमेरिका ने अपने नागरिकों के लिए बुधवार को नई यात्रा एडवाइजरी जारी की है जिसमें भारत का नाम भी शामिल किया गया है। भारत को दूसरे और पाकिस्तान को तीसरे स्थान पर रखा गया है। जबकि चौथे स्थान पर अफगानिस्तान जैसे देश हैं।

भारत में यात्रा करने के लिए अमेरिका ने अपने नागरिकों को जारी की एडवाइजरीएडवाइजरी जारी करते हुए ये कहा गया है भारत में यात्रा करते समय थोड़ा सावधानी रखना है जबकि पाकिस्तान जाने के बारे में दोबारा सोचने की सलाह दी गई है। वहीं अफगानिस्तान जैसे देश के लिए यात्रा न करने की सलाह दी गई है। 

विदेश मंत्रालय ने कहा कि हर देश की अपनी ट्रैवल एडवाइजरी होती है जोकि पुराने नियमों से बदली जाती है। इस तरह के बदलावों से यूएस नागरिकों को दुनिया भर के देशों के बारे में जानकारी दी जाती है जिससे वह अपनी सुरक्षा को देखते हुए यात्रा करें। 

भारत को अपनी एडवाइजरी में दूसरे नंबर पर रखने के मामले में यूएस विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारत में अपराध और आतंकवाद बहुत ज्यादा है। एडवाइजरी में कहा गया है कि अमेरिकी नागरिकों को जम्मू-कश्मीर की यात्रा नहीं करनी है। 

भारत-पाकिस्तान बॉर्डर के 10 मील के क्षेत्र में न जाएं अमेरिकी नागरिक

एडवाइजरी के मुताबिक यूएस नागरिकों को भारत-पाकिस्तान बॉर्डर के 10 मील के क्षेत्र में नहीं जाना है। क्योंकि वहां दोनों देशों की सेनाओं के बीच गतिरोध रहता है। यूएस विदेश मंत्रालय ने साफ किया कि वह हर देश के लिए अलग से एडवाइजरी जारी करेगा जिसमें स्पेशल लोकेशन्स के लिए अलग से बताया जायेगा। 

न्यू इंडिया ट्रैवल एडवाइजरी में कहा गया है कि भारतीय अधिकारियों की रिपोर्ट में पता चला है कि  भारत में सबसे तेजी से बढ़ने वाला अपराध ‘रेप’ है। पूर्वी क्षेत्र में आतंकवाद फैला हुआ है। आतंकवादी बिना किसी चेतावनी के हमला कर सकते हैं और टूरिस्ट को निशाना बना सकते हैं। 

वहीं पाकिस्तान पर जारी एडवाइजरी में कहा गया है कि अगर आप पाकिस्तान जाना चाहते हैं तो एक बार फिर से विचार कर लें। क्योंकि पाकिस्तान में सबसे ज्यादा आतंकवाद फैला हुआ है। यूएस नागरिकों को बलूचिस्तान जाने के लिए भी मना किया गया है। 

नागरिकों से कहा गया कि वह पाक अधिकृत कश्मीर में भी न जाएं क्योंकि यह सेंसटिव एरिया है जहां अक्सर गोलीबारी होती रहती है। पिछले 6 महीने में पाकिस्तान में 40 आतंकी हमले हुए हैं जिसमें 225 लोगों की मौत हुई और 475 घायल हुए। इनमें बहुत से हमले बलूचिस्तान, केपीके और फाटा में हुए। 

 
 

You May Also Like

English News