भारत- EU की साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में उठा आतंक का मुद्दा, निशाने पर सईद और दाऊद इब्राहिम

भारत और यूरोपीय यूनियन की साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में आतंकवाद का मुद्दा जोर-शोर से उठा। पहली बार हाफिज सईद, जकीउर रहमान लखवी और दाऊद इब्राहिम जैसे आतंकियों के नाम पर चर्चा हुई और आतंक के खिलाफ साथ मिलकर लड़ने की बात कही गयी। सईद और लखवी 2008 के मुंबई धमाकों के दोषी हैं और दाऊद 1993 के मुंबई ब्लास्ट का आरोपी है।भारत- EU की साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में उठा आतंक का मुद्दा, निशाने पर सईद और दाऊद इब्राहिम

अब आईफोन 8 को टक्कर देंगी ये ‘चारपाई’, कीमत जानकर उड़ जाएंगे आप होश..

14वीं यूरोपीय यूनियन समिट में इन आतंकियों के बारे में पीएम मोदी, यूरोपीय काउंसिल के अध्यक्ष डोनाल्ड टस्क और यूरोपीय कमीशन के अध्यक्ष जीन क्लॉड जंकर के बीच बातचीत हुई। संयुक्त बयान में कहा गया कि हम सभी लोग इस बात पर सहमत हैं कि वैश्विक आतंकियों और उनके संगठनों के खिलाफ मिलकर लड़ाई लड़ी जाए। ऐसे संगठनों में हाफिद सईद, जकीउर रहमान, दाऊद इब्राहिम, लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद, हिजबुल मुजाहिदीन, हक्कानी नेटवर्क, अलकायदा और आईएसआईएस का नाम शामिल है। 

गौरतलब है कि 2016 में 13वीं समिट के दौरान केवल आतंकी संगठनों के बारे में ही बात हुई थी और किसी आतंकी का नाम उसमें नहीं उठाया गया था। भारत और यूरोपीय यूनियन की साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में पीएम मोदी ने कहा कि दोनों देशों के बीच बहुआयामी संबंध और रणनीतिक साझेदारी हमारी प्राथमिकता है। 

पीएम ने कहा कि ब्रसेल्स में पिछले साल के शिखर सम्मेलन के बाद हमारे संबंध मजबूत हुए हैं। हम आतंकवाद के मुद्दे पर साथ मिलकर लड़ने के लिए तैयार हुए हैं। वहीं यूरोपीय काउंसिल के अध्यक्ष डोनाल्ड टस्क ने कहा कि हम गतिशील व्यापार, वैश्विक और क्षेत्रीय मुद्दों पर सहयोग बढ़ाने के लिए सहमत हैं। 

टस्क ने विदेशी आतंकवादी लड़ाकों, उनकी फंडिंग और हथियारों की सप्लाई से उत्पन्न खतरे से निपटने के लिए आतंकवाद-विरोधी समझौते की घोषणा की। उन्होंने म्यांमार की स्थिति पर भी चर्चा की और इच्छा जताई कि वह म्यांमार के तनाव को देखना चाहते हैं जिससे जरूरतमंद लोगों की मदद की जा सके। 

You May Also Like

English News