मंत्रीजी के नाम वाला आदेश भी उड़ाया हवा में, नप गए दो अफसर: सुरेश राणा

यूपी सरकार के राज्यमंत्री के एस्कार्ट के लिए वाहन उपलब्ध न कराने पर डीएम नेहा शर्मा ने उपायुक्त उद्योग व सहायक प्रबंधक का वेतन रोकने के आदेश जारी कर दिए हैं। सिटी मजिस्ट्रेट द्वारा बार-बार फोन करने पर भी एस्कार्ट के लिए वाहन उपलब्ध नहीं कराया गया।मंत्रीजी के नाम वाला आदेश भी उड़ाया हवा में, नप गए दो अफसर: सुरेश राणा

प्रदेश के गन्ना विकास एवं चीनी मिल मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) सुरेश राणा एक जनवरी को जनपद की सीमा से गुजरे। वह सवाई माधौपुर से लखनऊ तक कार से गए थे। जिले में वह एक्सप्रेस-वे से होकर निकले। राज्यमंत्री के आने की पहले 31 दिसंबर की सूचना थी। 

इसके उपरांत एक जनवरी का कार्यक्रम फाइनल हुआ। उन्हें एस्कॉर्ट देने के लिए पुलिस द्वारा एक हल्के वाहन की मांग प्रोटोकॉल अधिकारी एवं सिटी मजिस्ट्रेट से की। 

एस्कार्ट के लिए वाहन उपलब्ध कराने के लिए सिटी मजिस्ट्रेट शीतला प्रसाद ने एक पत्र उपायुक्त उद्योग शरद टंडन को भेजने के साथ ही उन्हें फोन पर बताया दिया। इसके बावजूद वाहन उपलब्ध नहीं कराया। 

राज्यमंत्री के आने से पूर्व एक जनवरी को सिटी मजिस्ट्रेट ने उपायुक्त उद्योग से वाहन उपलब्ध कराने के लिए कई बार फोन किया, परंतु वाहन नहीं भेजा गया। इसके बाद सहायक प्रबंधक उद्योग राजीव पाठक को फोन किया तो उन्होंने भी हाथ खड़े कर दिए। 

इसके बाद सिटी मजिस्ट्रेट को दूसरे वाहन का इंतजाम कर एस्कार्ट के लिए गाड़ी भेजी। सिटी मजिस्ट्रेट शीतला प्रसाद यादव ने पूरे मामले से डीएम नेहा शर्मा को अवगत कराया। डीएम ने मामले की गंभीरता को देखते हुए उपायुक्त उद्योग शरद टंडन व सहायक प्रबंधक आरके पाठक का अग्रिम आदेश तक वेतन रोक दिया है।

You May Also Like

English News