मंत्रो में महामंत्र है गायत्री मन्त्र

गायत्री मंत्र एक ऐसा मंत्र है जिसके जाप से सभी समस्याएं दूर हो सकती हैं. शास्त्रो में गायत्री मंत्र को बहुत  शक्तिशाली और चमत्कारी बताया गया है.यह सबसे ज्यादा प्रभावी मंत्रों में से एक मंत्र इसके जप से बहुत जल्दी शुभ फल प्राप्त हो सकते हैं.

मंत्रो में महामंत्र है गायत्री मन्त्र

गायत्री मंत्र के जप का समय है सुबह का. सूर्योदय से थोड़ी देर पहले मंत्र जप शुरू किया जाना चाहिए. जप सूर्योदय के बाद तक करना चाहिए.

राशिफल: आज इन राशि वालों को मिलेगी खुशखबरी, क्या कहते हैं आपके सितारे

गायत्री मंत्र जप की विधि 

इस मंंत्र के जप करने के लिए रुद्राक्ष की माला का प्रयोग करना श्रेष्ठ होता है. जप से पहले स्नान आदि कर्मों से खुद को पवित्र कर लेना चाहिए. मंत्र जप की संख्या कम से कम 108 होनी चाहिए. घर के मंदिर में या किसी पवित्र स्थान पर गायत्री माता का ध्यान करते हुए मंत्र का जप करना चाहिए.

वैलेंटाइन डे पर राशि के अनुसार करें प्यार का इजहार, लव लाइफ हो जाएगी रंगीन

गायत्री मंत्र जप के फायदे –

1-उत्साह एवं सकारात्मकता बढ़ती है.

2-त्वचा में चमक आती है.

3-बुराइयों से मन दूर होता है.

4-धर्म और सेवा कार्यों में मन लगता है.

5-पूर्वाभास होने लगता है.

6-आशीर्वाद देने की शक्ति बढ़ती है.

7-स्वप्न सिद्धि प्राप्त होती है.

8-क्रोध शांत होता है.

You May Also Like

English News